पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महापर्व होली:शांति और आपसी भाईचारे के साथ संपन्न हुआ रंगों का महापर्व होली

जहानाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रंगों का महापर्व होली इस साल कोरोना के संक्रमण के खतरों के बीची मंगलवार को पारंपरिक तरीके से शांति व सौहार्द के वातावरण में संपन्न हो गया। हालांकि इस साल पर्व के अवसर पर आयोजनों पर कोरोना का थोड़ा असर दिखा फिर भी अधिकांश जगह पर लोगों के उल्लास में कोई कमी नहीं दिखी। गांव-गांव से लेकर शहर तक लोग रंग-गुलाल में डूबे दिखे। गांवों से लेकर शहर में भी कई जगहों पर पारंपरिक होली गायन का आयोजन किया गया। हालांकि होली गायन के दौरान कई जगह लोगों ने सतर्कता दिखाते हुए थोड़ी दूरी का ख़याल भी रखा।

सड़कों पर इस साल गतिविधियां आम तौर पर कम नजर आई। लोग एक दूसरे से मिलने जुलने में भी आम तौर पर थोड़ा परहेज करते दिखे। शहर के राजाबाजार में बाजार समिति परिसर स्थित शिव मंदिर के अलावा संकट मोचन मंदिर में भी सामूहिक होली गायन का लोगों ने आनंद लिया। कई अन्य मुहल्लों में भी लोगों ने घर के पास होली गायन का आयोजन किया था। होली के दिन लोग सुबह से ही सड़कों पर नजर आए और एक दूसरे को रंगों से सराबोर करते रहे। इसके पूर्व होलिका दहन के दौरान भी इस साल डीजे बजाने की अनुमति नहीं दी गई थी। प्रशासन ने अपने आदेश को सख्ती से पालन कराने में रूचि दिखलाई। कई जगहों से डीजे को अधिकारियों ने जब्त कर लिया।

शहर से गांव-गांव तक होलिका दहन पूरे विधान से हुआ संपन्न
होलिका दहन में शहर से गांव-गांव तक लोगों ने विधान के साथ मौके पर जुटकर अगजा जलाया। अधिकांश जगहों पर लोगों ने होलिका दहन के अवसर पर होली गायन किया। शाम साढ़े आठ बजे तक शुभ मुहूर्त में लोगों ने होलिका दहन का विधान संपन्न करा लिया। अगजा के वक्त हर जगह शहर में प्रशासनिक सक्रियता चुस्त दिखी। शहर में पूरे पर्व के दौरान प्रशासनिक सक्रियता इस साल कुछ ज्यादा दिखी। किसी को ज्यादा भीड़-भाड़ लगाने की अनुमति नहीं दी जा रही थी। गांवों में कई जगहों पर हाेलिका दहन व होली के दिन रंग को लेकर मारपीट की वारदात भी सामने आई।

कोरोना को लेकानहीं निकला झुमटा, मटका फोड़ने की भी नहीं मिली आजादी
वर्षों बाद इस साल शहर में पारंपरिक झुमटा व मटका फोड़ने का सिलसिला बंद रहा। दरअसल प्रशासन ने पहले ही इन आयोजनों पर प्रतिबंध लगा रखा था। प्रशासनिक आदेश पर अमल कराने के लिए पुलिस के अधिकारी व ड्यूटी में तैनात मैजिस्ट्रेट दिन भर पूरी तरह से सक्रिय रहे। शहर के पारंपरिक स्थानों पर इस साल मटका फोड़ प्रतियोगिता का आयोजन नहीं हुआ लेकिन कुछ जगहों पर पुलिस की नजरों से छुपकर कुछ युवाओं ने मटका फोड़ने का विधान चुपके से फटाफट संपन्न करा लिया। हालांकि मंगलवार को पूरे दिन सड़कों पर रंग-गुलाल उड़ेलने का सिलसिला दोपहर बाद तक जारी रहा। सड़कों पर मंगलवार को पूरे दिन विरानगी पसरी रही। बाजार की सभी दुकाने बंद रहीं। यहां तक की दवा की दुकाने भी बंद रही।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें