पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक हफ्ते बाद फिर गूंजेगी शहनाई:शादी के लिए इस साल अब बचे 8 ही श्रेष्ठ लग्न

जहानाबाद9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नवंबर में मात्र तीन शुभ लग्न, जनवरी से मार्च तक नहीं है कोई अच्छा शुभ लग्न

कोरोना की भेंट चढ़े साल 2020 की अब अंतिम चरण में है। दरअसल इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण अधिकांश विवाह सहित अन्य शुभ कार्य को टालना पड़ा था। लेकिन अब कोरोना के प्रकोप से थोड़ी राहत मिलती नजर आ रही है। सूबे में अब कोरोना से पीड़ित लोगों का रिकवरी रेट भी काफी बढ़ हो चुका है। ऐसे में अब आठ दिन बाद देवोत्थान एकादशी के बाद से शुरू हो रहे विवाह के मुहूर्त में सात फेरे लिए जा सकते हैं। इस माह नवम्बर में तीन व दिसम्बर माह में पांच मुहूर्त विवाह के लिए बहुत ही उत्तम हैं। जानकारों का मानना है कि अगर इन मुहूर्तों में विवाह नहीं किया गया तो अगले साल वर्ष 2021 के अप्रैल माह तक वर-वधू और उनके परिवार को मांगलिक कार्या के लिए इंतजार करना पड़ेगा। शहर के काली मंदिर के प्रमुख पुजारी जनमेजय मिश्र ने बताया कि 25 नवम्बर को देवोत्थान एकादशी है। इसी दिन भगवान विष्णु चार मास के बाद शयन से उठेंगे। इस दिन से ही विवाह सहित अन्य शुभ संस्कारों की शुरूआत हो जाएगी। इसके बाद नवम्बर माह में तीन व दिसम्बर माह में कुल पांच मुहूर्त में दांपत्य सूत्र में बंधने के लिए सात फेरे लिए जा सकते हैं। 25 नवम्बर को देवउठनी एकादशी के अवसर पर तुलसी पूजा करने के दौरान तुलसी व शालिग्राम का विवाह करने के बाद शुभ संस्कारों की शुरूआत होगी। ऐसे में नवम्बर माह में तीन मुहूर्त सबसे उत्तम हैं। फिर इसके बाद अगले महीने दिसम्बर माह में पहली तारीख से 11 तारीख के बीच विवाह के कुल पांच मुहूर्त हैं। इसके बाद 15 दिसम्बर से लेकर 14 जनवरी 2021 तक खरमास के कारण विवाह सहित अन्य संस्कारों के आयोजन नहीं किए जा सकेंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें