पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बाल सहायता योजना:अनाथ बच्चों को अब हर महीने दिए जाएंगे 1000 की जगह 1500 रुपये

जहानाबाद5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • परवरिश योजना के बच्चों का नाम हटा अब बाल सहायता योजना से जुड़ेगा

कोरोना से मृत माता-पिता के अनाथ बच्चों के लिए बाल सहायता योजना ज़िले में लागू हो गई है। समाज कल्याण विभाग ने योजना को लेकर अधिसूचना जारी कर जिला प्रशासन को गाइडलाइन भेजा है। अधिसूचना के अनुसार कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों के बेहतर पालन पोषण, आवासन एवं शिक्षा के लिए अनुदान के माध्यम से सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने हेतु एक नई योजना बाल सहायता योजना लागू करने की स्वीकृति प्रदान की गई है।

इस योजना के तहत योग्य बच्चों, जो गैर सांस्थिक व्यवस्था में अपने अभिभावक के साथ रह रहे हों, उनको 18 वर्ष तक पालन पोषण के लिए 1500 रुपये की राशि प्रतिमाह देय होगी। योजना का लाभ लाभुक और पालक परिवार के कर्ता के संयुक्त बचत बैंक खाता में दिया जाएगा। जानकारी के मुताबिक,कोरोना काल में अनाथ हुए बच्चे-बच्चियों को पूर्व में समाज कल्याण विभाग ने परवरिश योजना से जोड़ा था। इस योजना के तहत प्रति माह एक हजार रुपये दिए जाने का प्रावधान है। जिले में भी ऐसे बच्चों को चिह्नित किया गया था।

आंगनबाड़ी सेविकाएं तैयार करेंगी बच्चों की सूची

समाज कल्याण विभाग से मिली आधिकारिक जानकारी के अनुसार, अब इन बच्चों के नाम बाल सहायता योजना से जोड़ दिए जाएंगे। परवरिश योजना से इनके नाम हटा दिए जाएंगे। समाज कल्याण विभाग की तरफ से आंगनबाड़ी सेविकाओं के जरिए कोरोना महामारी से प्रभावित बच्चों की ट्रेसिंग कर, उनकी लिस्ट तैयार की जा रही है। बाल सहायता योजना से पहले इन बच्चों को सरकार की योजना ‘परवरिश’ के जरिए हर महीने एक हजार तक की आर्थिक मदद देने की बात कही गई थी।

खबरें और भी हैं...