पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आस्था:14 को दो बजे से सूर्य का मकर में हाेगा प्रवेश

जहानाबाद6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • उतरायन की ओर मुखातिब होंगे भगवान भास्कर, खत्म हो जाएगा खरमास

हिंदु धर्म का विशेष त्योहार मकर-संक्रांति पौष शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि यानी 14 जनवरी यानि गुरुवार को मनाई जाएगी। ज्योतिषाचार्यों ने बताया कि इस दिन दोपहर 2:03 बजे भगवान भास्कर धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश कर उत्तर पथगामी हो जाएंगे। इसके साथ ही खरमास भी समाप्त हो जाएगा। परंतु, गुरु और शुक्र ग्रह के कारण विवाह योग की तिथि नहीं होने से वैशाखी पर्व (सतुआन) के बाद ही शादी विवाह सम्पन्न होंगे। मकर संक्राति के दिन गंगा स्नान, व्रत, कथा, दान और भगवान सूर्यदेव की उपासना का खास महत्‍व है। इधर मकर संक्रांति को लेकर लोगों ने अपनी तैयारियों को पुख्ता करना शुरू कर दिया है। बाजारों में चूड़ा व तिलकूट की बिक्री उल्लेखनीय रूप से बढ़ गई है।

स्नान-दान करना पुण्य फलदायक

पुजारी जनमेजय मिश्र ने बताया की गुरुवार को मकर-संक्रांति का मान पूरे दिन है। इस दिन गंगा नदी समेत अन्य नदी तीर्थ, कुआं आदि सरोवर में स्नान,दान करना पुण्यफलदायक है। मान्यता है कि इस त्योहार पर सूर्यदेव अपने पुत्र शनि से मिलने के लिए आते हैं। पंडित नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि आम तौर पर शुक्र का उदय भी लगभग इसी समय होता है, इसलिए यहां से शुभ कार्यों की शुरुआत हो जाती है। परंतु, इस बार 15 तारीख तक शुक्र के अस्त रहने और इसके अगले दिन से पश्चिम दिशा में गुरु के अस्त हो जाने के कारण मांगलिक कार्य मकर संक्रांति के बाद भी नहीं हो सकेंगे।

मकर-संक्रांति के दिन क्या करना ज्यादा फलप्रद

धर्म गुरुओं ने बताया कि इस दिन सुबह दैनिक क्रियाकलाप के बाद स्नान कर लोटे में लाल फूल और अक्षत डाल कर सूर्य को अर्घ्‍य दें। सूर्य के बीज मंत्र का जाप करें। इस दिन भगवान सूर्य के साथ साथ भगवान गणेश, माता लक्ष्मी व भगवान शिव की भी पूजा करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है और मनुष्य का सोया भाग भी खुल जाता है। आचार्य ने बताया कि इस दिन श्रीमद्भागवत का एक अध्याय या गीता का पाठ करें। नए अन्न, कम्बल, तिल, घी आदि का दान करना अति शुभ है।

साथ ही, भोजन में नए अन्न की खिचड़ी बनाएं और सर्वप्रथम इस भोजन को भगवान को समर्पित करके तत्पश्चात प्रसाद के रूप में ग्रहण करें।पंडित जी ने बताया कि इस दिन किसी गरीब व्यक्ति को बर्तन समेत तिल का दान करने से शनि से जुड़ी हर पीड़ा से मुक्ति मिलती है। मकर संक्राति के दिन गंगा स्नान, व्रत, कथा, दान और भगवान सूर्यदेव की उपासना करने का विशेष महत्त्व है। इस दिन किया गया दान अक्षय फलदायी होता है। ङ्क्षहदू पुराणों में वर्णित एक कथा के अनुसार मकर-संक्रांति के दिन जब भगवान सूर्य अपने पुत्र भगवान शनि के पास जाते हैं। उस समय भगवान शनि मकर राशि का प्रतिनिधित्व कर रहे होते हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिस्थितियां अति अनुकूल है। कार्य आसानी से संपन्न होंगे। आपका अधिकतर ध्यान स्वयं के ऊपर केंद्रित रहेगा। अपने भावी लक्ष्यों के प्रति मेहनत तथा सुनियोजित ढंग से कार्य करने से काफी हद तक सफलत...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...

  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser