पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पहल:उद्यमी योजना में 50 प्रतिशत सब्सिडी देगी सरकार, 84 किस्तों में लौटानी होगी राशि

जहानाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सूक्ष्म एवं लघु उद्योग को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना एवं मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीएम नीतीश कुमार ने शुभारंभ किया। उद्घाटन कार्यक्रम का सीधा प्रसारण समाहरणालय सभा कक्ष में किया गया। प्रसारण के दौरान जिलाधिकारी नवीन कुमार के साथ महाप्रबंधक, जिला उद्योग केंद्र एवं मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अत्यंत पिछड़ा वर्ग उद्यमी योजना के कई लाभार्थी तथा मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना में आवेदन करने हेतु कुछ इच्छुक महिला उद्यमी भी मौके पर उपस्थित थे। जिलाधिकारी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के बाद योजना के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए इच्छुक उद्यमियों से योजना का लाभ लेने का आह्वान किया।

उन्होने बताया कि मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना एवं मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के अंतर्गत लाभान्वित होने के लिए इच्छुक जिलेवासी www.udyami.bihar.gov.in पर आवेदन कर सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत लाभार्थियों की योग्यता के लिए उनका बिहार का निवासी होने के अलावा कम से कम इंटरमीडिएट, आईटीआई, पॉलिटेक्निक डिप्लोमा या समकक्ष उत्तीर्ण होना जरूरी है। इसके अलावा आवेदकों की आयु सीमा 18 से 50 वर्ष होनी चाहिए। साथ ही इकाई, प्रोपराइटरशिप फर्म, पार्टनरशिप फॉर्म, एलएलपी अथवा प्राइवेट लिमिटेड कंपनी होना आवश्यक है। प्रोपराइटरशिप व्यवसाय उद्यमी द्वारा अपने निजी PAN पर किया जाना तथा प्रस्तावित फर्म के नाम से चालू खाता संकल्प निर्गत की तिथि दस मई 2021 के बाद खुले होने के साक्ष्य के साथ होना आवश्यक है।

इसके साथ ही जाति प्रमाण पत्र (पिता के नाम से), आधार कार्ड, जन्मतिथि के सत्यापन हेतु मैट्रिक प्रमाण पत्र, हाल का फोटो अपलोड करना आवश्यक है। मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना के अंतर्गत अधिकतम दस लाख की लागत वाली परियोजना को उद्यमियों द्वारा शुरू किया जा सकता है, जिस पर पचास प्रतिशत सब्सिडी उपलब्ध कराई जाती है। शेष बिना सब्सिडी वाले पचास प्रतिशत राशि को तृतीय किस्त मिलने के एक साल के उपरांत सात वर्षों में 84 आसन किस्तों में उद्यमियों द्वारा लौटाना है। मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के अंतर्गत कुल परियोजना लागत( प्रति इकाई) का पचास प्रतिशत या अधिकतम 5 लाख रूपए, जिसे मात्र एक प्रतिशत ब्याज के साथ 84 किस्तों में अदा करना होगा। यह भी आवश्यक है कि प्रस्तावित इकाई,फर्म के नाम से करंट अकाउंट बना हुआ हो एवं चयन होने के बाद इकाई का निबंधन अनिवार्य है।

खबरें और भी हैं...