पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पहल:राष्ट्रीय विधि सेवा प्राधिकरण डाक विभाग से कर रहा समझाैता, व्यवस्था के लिए होगा सर्वे

जहानाबाद7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विवाद सुलझाने में भी मदद करेंगे डाकिया

अब जिले का डाकिया ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में डाक बांटने के साथ झगड़ा सुलझाने में भी मदद करेगा। गरीब व असहाय लोगों को मदद पहुंचाने के उद्देश्य से राष्ट्रीय विधि सेवा प्राधिकरण (नेशनल लीगल सर्विसेज ऑथोरिटी) इसके लिए डाक विभाग से समझौता कर रहा है। जिले के विभिन्न डाकघरों में इसको लेकर सर्वे हो रहा है। जिले में सर्वे की प्रक्रिया का काम शीघ्र पूरा हो जाएगा। इसके तहत कानूनी मदद लेने वालों को अपना नाम, केस का रजिस्ट्रेशन नंबर, पूरा पता, किस कटेगरी से है, मंथली इनकम, किस प्रकार की कानूनी मदद लेना चाहते हैं, इसकी जानकारी देनी होगी। बताया गया कि इसके लिए डाकिया को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण से प्रशिक्षण देने की योजना है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सभी डाकघरों में विधिक सेवा संस्थानों के संबंध में सूचना देने के लिए साइन बोर्ड भी लगाएगा। स्थानीय मुख्य डाकघर के एडमिनिस्ट्रेटर राजीव कुमार ने बताया कि डाक का सर्विस ग्रामीण स्तर तक है।

राष्ट्रीय विधि सेवा प्राधिकरण इसके माध्यम से वैसे लोगों को कानूनी मदद दिलवाएगा, जिनको कानून की जानकारी नहीं है और कोर्ट में उसका मामला चल रहा है। उन्हें मुफ्त में वकील व अन्य सहायता मुहैया करायी जायेगी। यहां सर्वे का काम पूरा हो चुका है। वरीय अधिकारी का आदेश आते ही इसपर आगे का काम शुरू होगा। डाकिया पारिवारिक विवाद, भूमि विवाद व अन्य मामले को सुलझाने में मदद करेंगे। जो मामला बड़ा होगा उसे जिला प्राधिकरण के समक्ष रखेंगे। उन्होंने बताया कि यहां के डाकिया को आवेदन भरने में औसतन 15 से 20 मिनट लगेंगे। सर्वे के बाद वर्क प्लान तैयार किया जायेगा।

खबरें और भी हैं...