जिम्मेदारी:शिक्षकों के कंधे पर राष्ट्र निर्माण की जिम्मेदारी

जहानाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बीएड कॉलेज के सत्रारंभ पर समारोह में उपस्थित छात्र। - Dainik Bhaskar
बीएड कॉलेज के सत्रारंभ पर समारोह में उपस्थित छात्र।
  • प्रशिक्षित शिक्षकों के लिए भविष्य में बड़ी संभावनाएं : डॉ. चंद्रिका प्रसाद यादव

प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व शिक्षाविद डॉ. चंद्रिका प्रसाद यादव ने कहा कि शिक्षक राष्ट्र का निर्माता होता है। वास्तव में शिक्षक का पेशा अन्य पेशों से विशिष्ट इसीलिए है। सोमवार को वे यहां सिद्धार्थ टीचर ट्रेनिंग कॉलेज के इंदिरा गांधी सभागार में बीएड के सत्र 2021-23 के स्टूडेंट्स को संबोधित कर रहे थे। रायबहादुर बीएड कॉलेज एवं सिद्धार्थ टीचर ट्रेनिंग कॉलेज के छात्र छात्राओं को सत्र के वर्ग संचालन एवं परिचय समारोह में उन्होंने इस आशय का उद्गार व्यक्त किया। उन्होंने बीएड का प्रशिक्षण ले रहे स्टूडेंट्स को संबोधित करते हुए कहा कि आने वाले दिनों में वे एक शिक्षक की भूमिका में न सिर्फ बच्चों को पढ़ाएंगे बल्कि उनके जिम्मे राष्ट्र की नई पीढ़ी के निर्माण का महत्ती जिम्मा होगा। उन्होंने कहा कि शिक्षकों का प्रशिक्षण वक्त की बड़ी मांग है।

आज किसी भी स्कूल में बिना प्रशिक्षित शिक्षकों के लिए कोई जगह नहीं है। ऐसे में बीएड करने वाले स्टूडेंट्स के सामने कॅरिअर की बड़ी संभावनाएं उनका इंतजार करेंगी। प्रो. यादव ने कहा कि जहानाबाद आज पूरे बिहार में शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभा रहा है। समारोह में जिला परिषद की पूर्व अध्यक्ष कमला देवी, डा. संजय कुमार, डॉ अजय कुमार, कॉलेज के प्राचार्य प्रोफेसर सीमा सिंह प्रोफेसर रंजन यादव, प्रो. संजय सिंह, प्रोफेसर शहजाद, प्रोफेसर रामानंद प्रसाद व प्रोफेसर गिरजा प्रसाद चंद्रवंशी सहित कई अन्य लोग मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...