सतर्कता जरूरी:वैक्सीनेशन को फिर मिली गति : 70 केन्द्राें पर 9310 लोगों को दिया गया कोरोनारोधी टीका

जहानाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अबतक तीन लाख चौदह हजार से अधिक लोगों को दिया गया टीका

जिले में वैक्सीनेशन अभियान को शनिवार को एक बार फिर से गति देने का अच्छा प्रयास किया गया। शनिवार को नौ हजार से अधिक लोगों को टीका लगया गया। इधर वैक्सीनेशन को लेकर लोगों में भी लगातार उत्साह बढ़ता जा रहा है। कैंप की सूचना मिलते ही केंद्रों पर लोगों की भीड़ लग रही है। वैक्सीन लेने को ले लोगों की केंद्रों पर सुबह से ही लोगों को लंबी कतार लगी थी। डीआईओ प्रमोद कुमार डब्ल्यूएचओ वह यूनिसेफ के प्रतिनिधि डॉक्टर रूद्र शर्मा, आशुतोष कुमार अविनाश कुमार व राकेश कुमार सरीखे कर्मी टीकाकरण कार्यक्रम सफल बनाने में लगातार सक्रियता दिखा रहे हैं। शनिवार को भी लोगों के उत्साह के आगे वैक्सीन की उपलब्धता फिर कम पड़ गई। कई केंद्रों पर 12 बजे के बाद आवंटित वैक्सीन का रजिस्ट्रेशन फुल होने के बात कब स्वास्थ्य विभाग की टीम ने हाथ खड़े कर दिए।

पीएचसी और पंचायतों में शिविर लगाकर किया गया वैक्सीनेशन

डीआईओ ने बताया कि शनिवार को जिले के 70 केंद्रों पर टीकाकरण शिविर आयोजित कर 9310 लोगों को वैक्सीन दी गयी। विभिन्न पीएचसी एवं पंचायतों में शिविर लगाकर 7340 लोगों को तथा शहरी क्षेत्र के सदर अस्पताल, मखदुमपुर ,काको एवं घोसी अस्पताल एवं अन्य टीकाकरण केंद्रों पर 1970 लोगों को वैक्सीन दी गई। डीआईओ ने बताया कि शुक्रवार को दस हजार डोज वैक्सीन का आवंटन मिला था। जिसे शनिवार को सभी पीएचसी एवं शहरी क्षेत्र तथा पंचायतों में कैंप लगाकर लोगों को वैक्सीनेशन किया गया।

उन्होंने बताया कि जिले के शत-प्रतिशत लोगों को टीकाकरण किया जाना है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग लगातार टीकाकरण शिविर लगा रही है। उन्होंने सभी जनप्रतिनिधियों से टीकाकरण में लोगों को जागरूक करने की अपील किया है। स्थानीय जन प्रतिनिधि व शहर में वार्ड पार्षद कई जगहों पर लोगों के वैक्सीनेशन में रूचि दिखला रहे हैं। कुल मिलाकर लोगों में वैक्सीन को लेकर जितना उत्साह है, उस लिहाज से वैक्सीन की नियमित उपलब्धता नहीं हो पा रही है। अगर पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन की उपलब्धता बनी रहे तो जिले में वैक्सीनेशन का लक्ष्य समय से पूरा कर लिए जाने की संभावना है लेकिन वैक्सीन की नियमित उपलब्धता अपेक्षित ढंग से नहीं हो पा रही है।

खबरें और भी हैं...