पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भक्ति की शक्ति:कंचनेश्वर महादेव के आशीर्वाद से बनते हैं बिगड़े काम

कैमूर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर में दर्शन करने के 12 वें दिन पूरी हो जाती है श्रद्धालुओं की मनोकामना

सावन के महीने में विनोवा वन में स्थित कंचनेश्वर महादेव के मंदिर के दर्शन को दूरदराज से लोग आते हैं। जिला मुख्यालय से 30 किमी दूर डुमरांव-बिक्रमगंज स्टेट हाइवे के किनारे बसे गांव को कंचनपुर के नाम से जाना जाता है। सैकड़ों एकड़ में फैले इस वन में स्थित है उत्तर गुप्त कालीन शिवलिंग।

सोमवारी की पूजा को यहां लोगों का जमघट लग जाता है। लोग दाेपहर तक लाइन में खड़े होकर अपनी बारी का इंतेजार करते हैं। मंदिर की ख्याति ऐसी है कि आस-पास के दस पंचायतों के हजारों लोग सावन और फाल्गुनी शिवरात्रि पर यहां जल चढ़ाते हैं। यहां महाशिवरात्रि को एक विराट मेले का आयोजन होता है। जिसमें लाखों की भीड़ जमा होती है। सावन में श्रद्धालु दूर दराज से महादेव के दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं। यहां सावन में जल चढ़ाने से भक्तों की सारी मनोकामना 12वें दिन पूरी होती है। इसी मान्यता की वजह से धीरे-धीरे मंदिर की ख्याति बढ़ती जा रही है।

सीएम से लेकर डिप्टी सीएम भी कर चुके हैं दर्शन 

न्याय यात्रा के दौरान सीएम ने भी शिवलिंग पर मत्था टेका था और रूद्राक्ष का पौधारोपण किया था। हाल में बदलाव ग्रुप का गठन कर कंचनपुर गांव और कोरान सराय के साथ डुमरांव के कुछ उत्साही युवाओं ने विनोबा वन को पूर्व की स्थिति में लाने का प्रयास शुरू किया है। इसी क्रम में बिहार के वर्तमान डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय, एटीएस के डीआईजी विकास वैभव, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी और बक्सर सदर विधायक मुन्ना तिवारी विनोबा वन का दौरा कर चुके हैं। एटीएस के डीआईजी विकास वैभव के साथ पहुंचे पुरातत्व विभाग से जुड़े अाशुताेषानंद द्विवेदी ने मंदिर के आस-पास मिली मूर्तियों को उत्तर गुप्त कालीन से भी पहले का बताया था।

कई पौराणिक कहानियां हैं प्रचलित : कंचनपुर गांव के वरिष्ठ ग्रामीण व धर्मग्रंथों के जानकर कमल पांडेय कहते हैं कि इस जंगल में एक बार एक चरवाहे को साधु ने प्यास लगने पर खाने के लिए बालू दिया और पीने के लिए पानी। वो बालू बाद में चीनी की तरह मीठा लगा। उसके बाद वो साधु नहीं दिखे। तब से इस शिवलिंग को जंगली महादेव के नाम से पूजा जाने लगा।

मंदिर व वन की देखभाल में लगे हैं युवा : यहां के युवा आशुतोष पांडेय व सुमित कुमार ने बताया कि इलाके के लोगों का महादेव के प्रति आगाध आस्था है। यहां कि खासियत है कि दर्शन के 12वें दिन आपकी मनोकामना पूरी हो जाती है। स्थानीय विधायक सह परिवहन मंत्री ने अपने कोष से यहां 11 लाख की लागत से सामुदायिक भवन का निर्माण कराया है। युवा समाजसेवी आशुतोष के बदलाव ग्रुप में राकेश त्रिपाठी, पूर्णानंद मिश्रा, धीरज पांडेय, संजय सिंह, उपेंद्र पाठक, रवि प्रकाश और नवनीत जैसे साथी मौजूद हैं। जो मंदिर व विनोवा वन के जीर्णोद्धार आदि कार्यों मे लगे रहते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें