अनदेखी:पुल निर्माण के 13 वर्षों के बाद भी नहीं बन सका है अप्रोच पथ

कौआकोलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में शूमार कौआकोल थाना क्षेत्र के कदहर से झप्पू मोड़ पथ के नाटी नदी पर 2008 में एक करोड़ 44 लाख की लागत से बना पुल का सड़क से सम्पर्क नहीं होने के कारण यह पुल अनुपयोगी बना हुआ है। इस पुल का उद्घाटन भी आज से 13 वर्ष पूर्व ही 24 नवम्बर 2009 को प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा किया गया था। पर क्षेत्र की जनता का दुर्भाग्य कहें या फिर जनप्रतिनिधियों की अनदेखी, आज तक इस पुल का सम्पर्क सड़क से नहीं हो सका।जिसके चलते यह पुल पूरी तरह से अनुपयोगी बना हुआ है।

तथा इतनी बड़ी राशि खर्च किये जाने के बाद भी इसका तनिक भी लाभ क्षेत्र की आम जनता को नहीं मिल पा रहा है। क्षेत्र के लोगों की मानें तो काफी प्रयास के बाद प्रखंड की अधिसंख्य आबादी को प्रखंड मुख्यालय तथा नवादा कौआकोल एवं कौआकोल जमुई मुख्य पथ से जोड़ने के लिए कौआकोल के कदहर गांव के पास नाटी नदी पर इस पुल का निर्माण किया गया। निर्माण के बाद क्षेत्र के लोगों की उम्मीदें जगी थी कि अब उन्हें यातायात की समस्या से निजात मिल सकेगा, पर वैसा कुछ हुआ नहीं।आम लोगों की उम्मीदें पर पानी फिर गई। और इस पुल की सार्थकता सिर्फ उद्घाटन होने तक ही सिमट कर रह गया।

क्षेत्र के लोगों के अनुसार पूर्व के चुनाव के दिनों में इस पुल के निर्माण के लिए नेताओं की वायदों का लोगों को लम्बा इंतजार करना पड़ा था। नेताओं द्वारा चुनाव के वक्त यह पुल चुनावी वायदा में हमेशा शामिल हुआ करता था। अब देखना है कि इस पुल को सड़क के सम्पर्क से जोड़ने में क्षेत्र की आम जनता को कितने वर्षों का और इंतजार करना पड़ता है।

जबकि पिछले दो चुनावों से इस पुल को क्षेत्रीय सांसद व विधायक द्वारा सड़क से सम्पर्क कर दिये जाने के आश्वासन क्षेत्र वासियों को मिलते रहे हैं। इस पुल का सड़क के सम्पर्क हो जाने से पुलिस प्रशासन को अपराध नियंत्रण के दृष्टिकोण से क्षेत्र गश्ती के लिए मददगार साबित होने के साथ ही प्रखंड के तीन पंचायत के लोगों का प्रखंड मुख्यालय से सीधा सम्पर्क हो सकेगा।

खबरें और भी हैं...