सख्ती:200 आवास प्राप्त लाभुकों पर नीलाम पत्रवाद दायर

कुचायकोट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कुचायकोट में प्रधानमंत्री आवास योजना की सहायता राशि लेकर आवास नहीं बनाने पर हुई कार्रवाई

प्रधानमंत्री आवास योजना की सहायता राशि लेकर आवास नहीं बनाने वाले लाभुकों पर विभाग ने सख्त कार्रवाई शुरू कर दिया है। इसको लेकर पंचायतों में हड़कंप मचा हुआ है। अभी पंचायत चुनाव हाल ही में समाप्त हुआ है। ऐसे में विभाग द्वारा सख्ती बरते जाने पर जहां लाभुकों में हड़कम मचा है तो वहीं पंचायत प्रतिनिधि भी विभाग के इस कार्रवाई से सहमे हुए है। प्रखंड के 28 पंचायतों के दो सौ लाभुकों पर बीडीओ वैभव शुक्ल द्वारा नीलाम पत्र वाद दायर करने के लिए सीओ को पत्र दिया है। अंचल कार्यालय को पत्र मिलते ही अंचलाधिकारी उज्ज्वल चौबे ने सभी लाभुकों को नीलाम पत्र वाद दायर का नोटिस तामील करवाया है। नोटिस मिलते ही लाभुकों में खलबली मची हुई है। नीलाम पत्र वाद दायर लाभुकों में वित्तीय वर्ष 2016-17, 2017-18 एवं 2019-20 के वैसे लाभुक शामिल है जो लाल नोटिस दिए जाने के बाद भी अबतक मकान नहीं बनाया है। जबकि प्रखंड में 278 आवास अपूर्ण है। जिसको पूर्ण करवाने के लिए ग्रामीण आवास सहायक लगे हुए है।
28 पंचायतों में है सभी लाभुक : बीडीओ वैभव शुक्ल ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के वित्तीय वर्ष 2016-17, 2017-18 और 2019-20 का सभी पंचायतों के आवास सहायकों के साथ समीक्षा करने के बाद पाया गया कि पंचायत सिसवा, रामपुर खारेया, विक्रमपुर, सोनहुला, गोखुल, जलालपुर, सासामुसा सहित 28 पंचायत के वैसे लाभुक है जो सहायता राशि लेकर अबतक मकान पूर्ण नहीं किए है। जिनको आवास सहायकों द्वारा सफेद नोटिस, लाल नोटिस दिए जाने के बाद भी आवास निर्माण कार्य में प्रगति नहीं है। इसको गंभीरता से लेते हुए आवास पर्यवेक्षक अमिताभ कुमार सिंह को शीघ्र प्रतिवेदन देने का निर्देश दिया गया था। प्रतिवेदन प्राप्त होते ही नीलाम पत्र वाद की कार्रवाई की गई है। एक सवाल पर बीडीओ ने कहा कि पंचायत चुनाव आचार संहिता से इस कार्रवाई से कुछ नहीं लेना है। कार्रवाई के पश्चात कई जनप्रतिनिधि प्रखंड मुख्यालय पर दौड़ते देखे गए। लेकिन किसी की बातों को एक न सुनी गई। नीलाम पत्र वाद में ब्याज सहित सहायता राशि जमा करना होता है या उस भूमि को नीलाम कर सरकार द्वारा दी गई सहायता राशि वसूलने का प्रावधान है।
ये लोग रहे शामिल : बैठक में ब्रजेश चौबे, कंचन कुमार सिंह, आजाद अली, शशिभूषण प्रसाद, रविरंजन, संदीप कुमार मिश्र, प्रकाश कुमार सिंह, प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रभात कुमार पांडेय, लेखा सहायक रमेश कुमार, कार्यपालक सहायक धर्मेंद्र कुमार मांझी, इंद्रजीत कुमार, औरंगजेब आलम आदि थे।

खबरें और भी हैं...