क्राइम / सरकारी राशि के गबन के मामले में तत्कालीन मनरेगा पीओ और लेखापाल पर एफआईआर

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

कुचायकोट. सरकारी राशि का गबन करने ,जालसाजी तथा कई तरह की अनियमितता करने के मामले में कुचायकोट के तत्कालीन मनरेगा पीओ, लेखपाल और सेवा प्रदता  करने वाली कंपनी के प्रोपराइटर पर एफआईआर दर्ज कराई गई है। इसके साथ ही इनकी परेशानी और बढ़ गई है।पुलिस एफआईआर दर्ज कर सभी की गिरफ्तारी के लिए लगी हुई है।उप विकास आयुक्त सज्जन आर ने बताया कि  कुचायकोट प्रखंड के कार्यक्रम पदाधिकारी मनीष कुमार श्रीवास्तव द्वारा यह प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।
शिकायत के बाद मामले कि जांच के लिए बनाई गई थी टीम:  मनरेगा योजना में धांधली करने की शिकायत की गई थी।इसके बाद जांच के लिए टीम बनाई गई थी। डीडीसी को सौपे गए रिपोर्ट में इन पदाधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा अनियमितता की बात सामने आई। जिसके बाद 29 अप्रैल को उप विकास आयुक्त द्वारा उनसे स्पष्टीकरण की मांग की गई थी। तत्कालीन कार्यक्रम पदाधिकारी अचल चंद्र मिश्रा, लेखापाल मिथिलेश भगत द्वारा स्पष्टीकरण के जवाब में कोई ठोस तथ्यों का उल्लेख नहीं किया गया। बल्कि अपने उत्तरदायित्व से बचने मात्र के उद्देश्य से प्रमुख विषय वस्तु से विषयंत्रित होकर और अप्रासंगिक तथ्यों का हवाला दिया गया।
कंपनी के प्रोप्राइटर भी फंसे 
इस मामले में सेवा प्रदत कंपनी सुमन इंटरप्राइजेज के रविंद्र कुमार गुप्ता पर लगे गंभीर आरोप की जांच की थी।  जिसमें यह बात सामने आया की कम्पनी भी अधिकारियों के साथ मिलकर पैसे का बंदर बाट किया है।प्राथमिकी दर्ज करने के बाद पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुटी है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना