गरीबी ने ली जान:खाना खा रही मां-बेटी पर गिरी मिट्‌टी की दीवार, महिला की मौत, बेटी रेफर

मदनपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शुक्रवार को खाना खा रही एक मां-बेटी पर मिट्‌टी का दीवार अचानक भरभराकर गिर गया। जिसके मलबे में दबने से मां की मौत हो गई। जबकि उसकी बेटी गंभीर रूप से जख्मी हो गई। जिसे नाजुक हालत में बेहतर इलाज के बाहर रेफर किया गया है। घटना मदनपुर थाना क्षेत्र के अटल बिगहा गांव की है। मृतका मंजू देवी उसी गांव निवासी उपेन्द्र यादव की पत्नी थी। जबकि घायल उसकी बेटी 14 वर्षीय पुष्पांजलि कुमारी है।

पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनाें का सौंप दिया है। जबकि घायल बेटी का इलाज जारी है। घटना के बाद घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल है। इस घटना की खबर पुरे इलाके में जंगल की आग की तरह फैल गई। सैंकड़ों लोग मौके पर जुटे और घटना पर दुख जताए। हर किसी ने कहा कि गरीबी ने गरीब का घर उजाड़ दिया।

दीवार गिरने की हुई जोरदार आवाज

ग्रामीणों ने बताया कि सुबह के समय सभी लोग नास्ता कर रहे थे। अधिकांश लोग दिवाली मनाने के कारण थके हुए थे। इसी दौरान अचानक जोरदार आवाज गूंजा। सभी लोग समझे पटाखा छूटने से कोई मकान गूंजा, लेकिन थोड़ी देर में चीखने-चिल्लाने की आवाज आई। सभी लोग उपेन्द्र यादव के घर के तरफ दौड़े। वहां के नजारा देखकर सभी लोग चौंक गए। मिट्टी का दीवार गिरा हुआ था। जिसके मलबे में मां-बेटी दबी हुई थी। आनन-फानन में दोनों काे ग्रामीणों ने निकाला और इलाज के लिए मदनपुर पीएचसी में ले गए। जहां डॉक्टरों ने दोनों का इलाज शुरू किया। इसी क्रम में महिला मंजू की मौत हो गई। बेटी की तबीयत नाजुक देखते हुए डॉक्टरों ने तत्काल बेहतर इलाज के लिए औरंगाबाद सदर अस्पताल में रेफर कर दिया।

बड़ा सवाल- आखिर क्यों नहीं मिला आवास योजना का लाभ ?

प्रधानमंत्री आवास योजना यानी गरीबों के सपनों का महल। ऐसे गरीब जिनके पास अपना पक्का का मकान न हो। जिनके पास मकान के लिए जमीन भी न हो। जो मकान बनाने में सक्षम न हों। वैसे गरीबों को सरकार पीएम आवास योजना के तहत पक्का मकान निर्माण के लिए पैसा देती है। इस योजना को भारत सरकार द्वारा 25 जून 2015 को शुरू की गई थी। सरकारी दावे की बात करें तो 31 मार्च 2022 तक लगभग गरीबों को इस योजना का लाभ पहुंचाने का लक्ष्य है, लेकिन अब सवाल उठता है कि मिट्‌टी के दीवार में दबकर मरने वाली मंजू क्या गरीब नहीं थी? क्या सरकारी सिस्टम के लोगों को सर्वे के दौरान उसकी मिट्‌टी का घर नजर नहीं आया था? आखिर उसे आवास योजना का लाभ क्यों नहीं दिया गया? जबकि उस इलाके में कई पक्का मकान वाले अमीर लोगों को आवास योजना का लाभ दिया गया है। यह बात इस घटना के बाद चर्चा में है और बोल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...