मजदूरों की मजबूरी / मांझी में ट्रेन के रुकते ही खाने के सामान खरीदने दौड़े यात्री

Passengers in Manjhi rush to buy food as soon as the train stops
X
Passengers in Manjhi rush to buy food as soon as the train stops

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

मांझी. केरला से कटिहार जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन के शुक्रवार को मांझी में रुकते हीं अजीब नजारा देखने को मिला। मौका मिलते हीं ट्रेन पर सवार यात्री नीचे उतर कर अपनी जान जोखिम में डाल कर खाने- पीने का सामान खरीदने दौड़ पड़े। जिससे कुछ देर तक भगदड़ की स्थिति बन गई। रेलवे लाईन से लगभग 50 फुट नीचे स्थित मांझी चट्टी की दुकानों पर अचानक रेल  यात्रियों की भीड़ जमा हो गई। आसपास के चापाकलों पर बोतल में पानी भरने की होड़ सी लगी रही।

प्रवासियों ने काफी मात्रा में पानी के बोतलों की भी खरीददारी की। मांझी रेलवे स्टेशन के समीप ट्रेन लगभग 15 मिनट तक खड़ी रही। जिसे जो मिला लेकर पुनः ट्रेन पर सवार हो गया। दुकानदारों ने भी यात्रियों का भरपूर सहयोग किया। ट्रेन के रुकने का लाभ उठाते हुए आसपास के गांवों के दर्जनों यात्री निकल भागने में सफल रहे। कुछ ही देर बाद ट्रेन ने सीटी दी और पुनः ट्रेन अपने गंतव्य की ओर रवाना हो गई। इस दौरान  बड़ी संख्या में लोग कौतूहल वश रुकी ट्रेन देखने के लिए जमा हो गए थे। स्थानीय लोगों ने उन्हें हाथ हिला कर विदा किया।
छपरा आने वाले प्रवासियों को दो श्रेणियों में बांटा जाएगा
सूरत, अहमदाबाद, मुंबई, पुणे, दिल्ली, एनसीआर, कोलकाता और बैंगलोर से आने वाले प्रवासी श्रेणी 1 में रखे गये हैं। श्रेणी वन के अतिरिक्त अन्य स्थानों से आने वाले प्रवासी श्रेणी 2 में रखे गये हैं। डीएम सुब्रत कुमार सेन के द्वारा सीओ और बीडीओ को निर्देश दिया गया है कि वैसे शहर या स्थान जहां कोरोना वायरस का संक्रमण बहुत अधिक है वहां से आने वाले प्रवासियों को श्रेणी वन में रखते हुए उन्हें प्रखंड क्वारेंटाइन या पंयाचत क्वारेंटाइन में रखने की व्यवस्था करायी जाए। श्रेणी वन में सूरत, अहमदाबाद, मुम्बई, पुणे, दिल्ली, एनसीआर (गुडगांव, फरीदाबाद, गाजियाबाद, नोएड), कोलकाता और बैंगलोर को रखा गया है।

श्रेणी वन वाले प्रवासियों का रजिस्ट्रेशन और हेल्थ स्क्रीनिंग प्रखंड स्तरीय क्वारेंटाइन कैंप में करायी जाए। ये लोग हर हाल में 14 दिन प्रखंड क्वारेंटाइन में रहेंगे। इनकी समुचित जांच होने के बाद हीं इन्हें प्रखंड क्वारेंटाइन से मुक्त किया जाएगा। श्रेणी-2 के प्रवासियों को सीधे उनके घर भेजा जाएगा। जहां वे 14 दिन होम क्वारेंटाइन में रहेंगे। लेकिन उसके पूर्व उन्हें उनके प्रखंड भेजा जाएगा। जहां के चिन्हित स्थल पर उनका हेल्थ स्क्रीनिंग किया जाएगा। उनका आधार एवं खाता विवरणी लिया जाएगा।

उनसे स्वघोषणा पत्र लेकर उन्हें होम क्वारेंटाइन भेजा जाएगा। इन प्रवासियों को डिग्निटी किट नहीं दिया जाना है। परन्तु उनके खाते में 1000 की राशि दी  जाएगी। सभी प्रखंडों में एक-एक स्थल चिह्नित करने, वहां तीन शिफ्ट में मेडिकल स्टाफ, अन्य कर्मी की प्रतिनियुक्ति अलग काउंटर बनाएं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना