पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

इबादत:रमजान की तरह ईद में भी लॉकडाउन का पालन करते हुए सादगी से मनाएं: उपप्रमुख

मशरक4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 24 या 25 मई को चांद दिखने पर मनेगी ईद, किसी भी कपड़े में नमाज होगी कुबूल

कोरोना वायरस का संक्रमण के कारण अपना मुल्क हिंदुस्तान मुश्किल दौर से गुजर रहा है । लॉकडाउन में लोगों की परेशानी बढ़ गयी है। लॉकडाउन से सबके ज्यादा प्रभावित मजदूर वर्ग के लोग हुए हैं। जो रोजाना देहारी/मजदूरी करके या दूसरे राज्यों में काम करके अपने परिवार का पालन पोषण कर रहे थे।

ऐसे में मुस्लिम समाज का सबसे बड़ा त्योहार ईद  30दिनों के रोजे के बाद 24/25 मई (चांद के अनुसार)को होनी है। मशरक प्रखंड उपप्रमुख साहेब हुसैन उर्फ टुनटुन ने कहा कि मुस्लिम समाज के लोगों ने जिस तरह माहे रमज़ान लॉक डाउन के नियमों का पालन करते हुए पूरी सादगी के साथ मनाया है। उसी तरह ईद भी सादगी से मनाने का निर्णय मुस्लिम समाज के लोगों ने लिया है। 
ईद की नमाज अपने घर पर अदा करने की अपील
मुस्लिम समाज के उलेमाओं व मुफ्तियों ने बकायदा अपने अपने मस्जिदों एलान करके कहा है कि तमाम मुस्लिम वर्ग के लोग ईद की नमाज अपने अपने घरों में ही अदा करें। मशरक प्रखंड के उप प्रमुख प्रतिनिधि साहेब हुसैन ने तमाम मुस्लिम भाइयों से अपील/गुजारिश की है कि फिजूल खर्ची से बचें और जो पैसे आप ईद के मौके पर नए नए कपड़े व गहने खरीदने के लिए रखे हुए हैं उन पैसों से किसी जरूरतमंदों की सहायता करें या उन मदरसा/संस्थनों को दें जो सभी धर्म और जाति के लॉक डाउन से प्रभावित लोगों की मदद कर रहे हैं।

तारिक अनवर का कहना है कि ईद में जरूरी नहीं है कि नए कपड़े ही पहने जाएं, बल्कि अगर हमारे पास साफ- सुथरे भी कपड़े भी होंगे तो हमारी ईद की नमाज कुबूल होगी। नए कपड़े, जूता चप्पल खरीदने से ज्यादा जरूरी इस समय भूखों का पेट भरना है। उप प्रमुख टुनटुन ने से नो टू ईद शॉपिंग की मुहिम चलाने की गुजारिश की है और साथ ही नेकी के फरिश्ते कहे जाने वाले, उन तमाम नन्हे रोजेदारों के हौसला व सब्र की तारीफ की है जो बच्चे ईद को लेकर तो बहुत खुश है लेकिन कोरोना वायरस को लेकर परेशान लोगों की खिदमत के लिए अपनी खुशियां भी कुर्बान करने को तैयार हैं ।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें