• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Nalanda
  • 4 People Including Two Innocent Were Murdered, Now The House Of Two Women Accused Was Attached; Absconding For 10 Months

नालंदा में महिला आरोपितों के घर की कुर्की जब्त:दो मासूम समेत 4 लोगों की हुई थी हत्या, अब दो महिला आरोपितों के घर की हुई कुर्की; 10 माह से चल रही फरार

नालंदाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कुर्की जब्त करने पहुंची पुलिस। - Dainik Bhaskar
कुर्की जब्त करने पहुंची पुलिस।
  • इश्तिहार चिपकाने के बाद भी नहीं आई सामने तो न्यायालय ने दिया ये आदेश

नालंदा जिले के दीपनगर थाना इलाके के सर्वोदयनगर में संपति के लालच में दो मासूम समेत 4 लोगों की हत्या करने के बाद दोनों आरोपित महिला काफी लंबे समय से फरार है। ऐसे में न्यायालय ने सख्त आदेश देते हुए फरार आरोपित महिलाओं के घर की कुर्की जब्त करने का आदेश दिया। जिसके बाद पुलिस ने कारवाई करते हुए कुर्की जब्त की गई। इस दौरान कार्रवाई देखने के लिए लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गयी।

दरअसल पिछले साल 5 अक्टूबर को संपति के विवाद में रवि कुमार, उनकी शिक्षिका पत्नी नेहा कुमारी, पुत्र अहान और पुत्री जेनी की गला रेतकर रिश्तेदारों द्वारा हत्या कर दी गयी थी। करीब 4 दिन बाद जब परिजनों की रवि और उसकी पत्नी से कोई बात नहीं हुई तो सभी ने किसी अनहोनी की आशंका जताई। इसके बाद मायके वालों ने थाने में इसकी सूचना दे दी। वहीं सूचना मिलने के बाद जब पुलिस कमरे का दरवाजा तोड़कर दाखिल हुई तो अंदर का नजारा देखकर दंग रह गई। वहां सभी का शव खून से लथपथ पड़ा था। सबसे ताज्जुब की बात यह है कि इस घटना की भनक पड़ोसियों तक को नहीं लग सकी। चार लोगों की एक साथ निर्मम हत्या होने के कारण आज भी इलाके में खौफ का माहौल है।

वहीं पुलिस को कातिलों तक पहुचना इतना आसान नहीं था। इन महिलाओं ने एक भी सुराग नहीं छोड़ा था। ऐसे में पुलिस ने जब आस पास के सीसीटीवी को खंगलना शुरू किया तो पता चला कि संपति के लालच में उसके पास के ही रिश्तेदार वीरेंद्र पासवान, उसकी दोनों पत्नी और सहयोगियों ने मिलकर इस जघन्य हत्या को अंजाम दिया था। हालांकि पुलिस ने वीरेंद्र पासवान को गिरफ्तार कर पहले ही जेल भेज दिया। जबकि उसकी पत्नी रेणु कुमारी और रिचा कुमारी 10 माह से फरार चल रही है। वहीं इश्तिहार चिपकने के बाद भी उन्होंने समर्पण नहीं किया। तब जाकर न्यायालय के आदेश पर दोनों के घरों का कुर्की जब्त किया गया। बता दें कि ये जब्ती थानाध्यक्ष मो। मुश्ताक अहमद और सदर सीओ धर्मेंद्र पंडित के नेतृत्व में की गई।

खबरें और भी हैं...