पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

12 दिन में धुल गया पत्नी की मांग का सिंदूर:नालंदा के युवक की 26 अप्रैल को हुई थी शादी, 12 दिन बाद वज्रपात ने ले ली जान, अब पूरे गांव में मातम

बिहारशरीफएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नवविवाहित की मांग से सिंदूर पोंछते उसके परिजन। - Dainik Bhaskar
नवविवाहित की मांग से सिंदूर पोंछते उसके परिजन।

बिहारशरीफ में हाथों की मेहंदी का रंग अभी छूटा भी नही था कि नवविवाहित की मांग से सिंदूर धुल गया। 12 दिन पहले ही उसकी शादी हुई थी। घटना सिलाव थाना क्षेत्र के सैदपुर गांव की है। सैदपुर निवासी अवधेश प्रसाद के बड़े पुत्र 30 वर्षीय कौशल कुमार चंदन की मौत वज्रपात से हो गई। शुक्रवार रात करीब 2 बजे आई अचानक तेज बारिश में कौशल अपने पिता अवधेश प्रसाद और मां विमला देवी के साथ खलिहान में रखे पुआल और अनाज को त्रिपाल से ढंकने के लिए गया था। अचानक ही खलिहान में लगे शीशम के पेड़ पर वज्रपात हो गया। इसमें कौशल बुरी तरह से झुलस गया, जबकि कुछ दूर पर खड़े माता पिता भी मामूली रूप से जख्मी हुए।

घटना के बाद आस पड़ोस के लोग आनन-फानन में कौशल एवं उसके माता पिता को इलाज के लिये सिलाव PHC ले गए, जहां चिकित्सकों ने कौशल को मृत घोषित कर दिया। माता-पिता का इलाज चल रहा है। घटना के बाद पूरे गांव में मातम छा गया है। पत्नी के साथ साथ माता-पिता एवं छोटा भाई का रो-रोकर बुरा हाल है। मृतक का छोटा भाई मूक है। मौके पर पहुंचे CO जितेंद्र कुमार ने बताया कि आपदा राहत के तहत पीड़ित परिवार को सहायता राशि दी जाएगी।

26 अप्रैल को हुआ था गठबंधन।
26 अप्रैल को हुआ था गठबंधन।

कौशल BCA की पढ़ाई कर लॉकडाउन में वह अपने माता-पिता के साथ घर पर रह रहा था। 26 अप्रैल को ही इसकी शादी बेना थाना क्षेत्र के सिरनामा निवासी पप्पू यादव की पुत्री गुड़िया के साथ हुई थी। हादसे के बाद पत्नी की स्थित काफी नाजुक बताई जाती है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। ग्रामीणों का कहना है कि प्रशासन पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा प्रदान करे।