आस्था का महापर्व:हंडिया सूर्य छठघाट सज-धज कर हुआ तैयार

नारदीगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कल नहाय-खाय करेंगी छठव्रती, मंगलवार को होगा व्रत का खरना

नारदीगंज प्रखंड नारदीगंज के विभिन्न गांवों में सूर्योपासना का चार दिवसीय छठपूजा को लेकर श्रद्धालु व छठव्रर्ती श्रद्धापूर्वक जूट गये है। लोक आस्था का महापर्व छठपूजा है। अगामी 8 नवम्बर 2021 से सूर्योपासना का चार दिवसीय छठपूजा नहाय खाय के।साथ शुरू हो जायेगा। 9 नवम्बर को खरना,10 नवम्बर को अस्ताचलगामी सूर्य को अध्र्यदान, 11 नवम्बर को उदीयमान सूर्य को अर्ध्यदान के बाद छठपर्व का समापन हो जाएगा। इस।महापर्व को लेकर जिले का ऐतिहासिक व द्वापरकालीन हंडिया गांव स्थित सूर्यमंदिर व तालाब की सफाई भी शुरू हो गया है।

इसके अलावा मंदिर परिसर के आसपास स्थलों व छठघाटों के समीप लगे।पेड़ पौधे को भी रंग रोगन कर आकर्षक बनानें में लोग लगे हुए है। मान्यता है कि इस तालाब में स्नान कर भगवान भास्कर की पूजा अर्चना करने से जहां मनोबांछित मूरादें पूरी होती है,वही कुष्ट,व्याध्रि समेत अन्य चर्मरोग से मुक्ति मिलती है। किंवंदितयां है कि मगध सम्राट जरासंध की पुत्री धन्यावती राजगृह से प्रतिदिन इस मंदिर में भगवान सूर्यदेव की पूजा अर्चना करने के आती थी।पूजा अर्चना करने के पहले मंदिर के निकट तालाब में स्नान करती थी। इस मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद ऐतिहासिक व द्वापरकालीन धनियावां पहाड़ी स्थितबाबा महादेव की पूजा अर्चना करने के लिए जाया करती थी।

इसके अलावा ओड़ो,कोशला,रामे गांव में भगवान भास्कर की मंदिर व छठघाट है,जहां श्रद्धालु व छठव्रर्ती भगवान भास्कर की पूजा अर्चना करने व अध्र्यदान के लिए आते है,साथ ही साथ नारदीगंज ढाढर नदी समेत अन्य स्थलों पर बने छठघाटों पर भी सूर्योपासना करने के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। थानाध्यक्ष मोहन कुमार ने कहा छठपूजा शांतिपूर्ण व सदभावपूर्वक श्रद्धाभाव के साथ मनायें, लेकिन कोविड -19 के तहत प्रोटोकाॅल का पालन करना भी आवश्यक है।

हंडिया गांव स्थित सूर्यमंदिर व छठघाटों के अलावा अन्य घाटों पर दंडाधिकारी व मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस पदाधिकारी व पुलिसबल तैनात रहेंगे। किसी प्रकार का सांस्कृतिक कार्यक्रम व मेला का आयोजन नहीं होगा। पर्व में अशांति भंग करने वाले लोगों के विरूद्ध कार्रवाई किया जायेगा। असमाजिक तत्वों को चिन्हित कर विधि सम्मत कार्रवाई होगी।

खबरें और भी हैं...