जताया आक्रोश:साइकिल, पोशाक व छात्रवृति राशि नहीं मिलने पर स्कूल प्रधान के खिलाफ गुस्सा

नवादाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वेन में पुतला दहन करते छात्र। - Dainik Bhaskar
वेन में पुतला दहन करते छात्र।
  • बेन मध्य विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने कहा- स्कूल में समय पर नहीं आते हैं शिक्षक

शिक्षा विभाग के लाख प्रयास के बाबजूद शिक्षक विद्यालय में पढ़ाई के प्रति लापरवाही बरतने से बाज नहीं आ रहे। इन पर लूट खसोट तक के आरोप लग रहे हैं। मामला बेन प्रखंड मुख्यालय के मध्य विद्यालय का है। साइकिल, पोशाक एवं छात्रवृति की राशि नहीं दिए जाने के विरोध में बेन मध्य विद्यालय में नामांकित छात्र-छात्राओं ने मंगलवार को स्कूल गेट पर विद्यालय प्रधान का पुतला जलाया और जमकर नारेबाजी की। छात्र छात्राओं ने बताया कि शैक्षणिक सत्र 2020-21 एवं 2021-22 की छात्रवृति, पोशाक और साइकिल की राशि अबतक नहीं मिली है।

सुजीत कुमार, सिन्टू कुमार, रौशन कुमार, सुमन कुमार, किशोर कुमार, अजय कुमार, नेहा कुमारी,अनीशा कुमारी, विभा कुमारी, नीशु कुमारी, शबनम कुमारी, सोनम कुमारी, आरती कुमारी, नीतीश कुमार, मनीष कुमार, निरंजन कुमार, कुन्दन कुमार, मिकी कुमारी, सानिया प्रवीण, सुनीता कुमारी समेत अन्य छात्र-छात्राओं ने विद्यालय प्रधान पर गंभीर आरोप लगाया। छात्र-छात्राओं ने कहा कि विद्यालय प्रधान की ओर से धमकी दी जाती है कि जहां जाना है जाओ, जो करना है करो। कुछ नहीं होने वाला है। छात्र-छात्राओं ने आरोप लगाया कि वर्ष 2020-21 और 2021-22 की छात्रवृति, पोशाक एवं साइकिल मद की राशि अब तक नहीं मिली है। छात्र-छात्राओं ने विद्यालय प्रधान की मनमानी और करतूतों की जांच कर वरीय पदाधिकारी कार्रवाई की मांग की है।

मध्याह्न भोजन में भी गड़बड़ी का लगाया आरोप
सुजीत कुमार, कुंदन कुमार, अमरीत प्रवीण, मुन्नी कुमारी,नीशा कुमारी, वंदना कुमारी,प्रवाणा खातुन,पिंकी कुमारी, विभा कुमारी, सानिया कुमारी, राजू कुमार, रंजन कुमार, नीरज कुमार समेत अन्य छात्र-छात्राओं ने आरोप लगाया कि मध्यान भोजन योजना के तहत मिलने वाला चावल में भी गड़बड़ी हो रही है। एमडीएम में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की जाती है। छात्र-छात्राओं ने कहा कि फर्जी हाजिरी एवं चावल में कटौती कर निवाले पर डाका डाला जा रहा है। विद्यालय के छात्र-छात्राओं के अलावा आसपास के लोगों ने भी चावल की कालाबाजारी करने की बात कही। ग्रामीणों ने कहा कि जांच के नाम पर लीपापोती कर दी जाती है। छात्र-छात्राओं ने आरोप लगाया कि एमडीएम के चावल में भी विद्यालय प्रधान द्वारा कटौती कर कालाबाजारी कर दिया जाता है। हमे तीन महीने पर 8-9 किलो चावल दिया जाता है। जबकि प्रत्येक महीने पांच किलो दिया जाना है।

बुनियादी सुविधाओं का भी है अभाव
नारेबाजी कर रहे छात्र छात्राओं ने विद्यालय विकास के लिए मिलने वाले फंड में भी गड़बड़ी के आरोप लगाए। छात्र-छात्राओं ने कहा कि विद्यालय में न पानी की व्यवस्था है और न ही शौचालय की व्यवस्था है। जिसके कारण विद्यालय से बाहर जाना पड़ता है। यह भी कहा कि विद्यालय में पढ़ाई सुचारु ढंग से नहीं होती है। छात्र-छात्राओं ने कहा कि स्कूल से बाहर रहने वालों शिक्षकों पर भी कारवाई होनी चाहिए।

राशि नहीं मिली है
इस संबंध में स्कूल के तत्कालीन प्रधान संतोष कुमार ने बताया कि नवम वर्ग के छात्र-छात्राओं का डीबीटी नहीं होने के कारण राशि नहीं मिल पाई है। यह पूछे जानें पर कि डीबीटी क्यों नहीं हुआ तो उन्होंने बताया कि उन्हें जानकारी नहीं थी। जानकारी बिलंब से हुई। वहीं एमडीएम में गड़बड़ी के सवाल पर वह मौन साध गए। वहीं वर्तमान विद्यालय प्रधान शिवरतन रजक ने बताया कि वह बच्चों को राशि दिलवाने के लिए प्रयासरत हैं। इसी काम वह आज भी बिहारशरीफ आये हुए हैं। इस संबंध में बीईओ से भी बात करने की कोशिश की गई। लेकिन उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

खबरें और भी हैं...