पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रधान डाकघर घोटाला:अंतिम दौर में सीबीआई की जांच, दो माह में पांचवीं बार नवादा पहुंची, दस्तावेज ले गई

नवादा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नवादा प्रधान डाकघर में दाे सदस्यीय टीम ने ढाई घंटे तक पूछताछ की

जिले के अब तक सबसे बड़े घोटाले की जांच कर रही सीबीआई की जांच अंतिम दौर में पहुंच गई है। 1 दर्जन से अधिक लोगों के बयान दर्ज होने के बाद उसकी क्रॉस चेकिंग के लिए सीबीआई की टीम ने डाकघर बैंक तथा अन्य जगहों से पूरक दस्तावेज भी हासिल कर लिया है। जल्द ही अब कार्यवाही देखने को मिल सकती है। बुधवार को सीबीआई के अधिकारी एक बार फिर नवादा प्रधान डाकघर पहुंचे। डाक घर पहुंचे अधिकारी ने नवादा हेड पोस्टऑफिस के कर्मचारियों से विभिन्न कागजातों के बारे में करीब ढाई घंटे तक पूछताछ की।

डाक अधीक्षक शिव शंकर मंडल ने सीबीआई अधिकारी के नवोदय प्रधान डाकघर योजना की पुष्टि की है। सूत्रों के अनुसार पिछले कई बार से मामले की जांच कर रही टीम को कुछ अहम सबूत हाथ लगे है, लेकिन सबूत को और मजबूत बनाने के लिए नवादा डाकघर से कुछ कागजात की मांग की गई थी। समय पर कागजात नहीं जमा होने के कारण जांच में देर हो रही है। इस बार सीबीआई की टीम फाइनल दस्तावेज ले जाने आई थी। सभी अधिकारी कई दस्तावेज अपने साथ पटना ले गए हैं। बुधवार को नवादा प्रधान डाकघर पहुंचे सीबीआई अधिकारी ने डाक अधीक्षक शिव शंकर मंडल से भी जानकारियां प्राप्त किया।

2019 में घाेटाला सामने आया था, नवादा से शुरू हुई जांच पूर्णियां तक पहुंची

57 करोड़ के घोटाले की जांच कर रही सीबीआई की टीम कर्मचारियों से बारी-बारी से पूछताछ की

बताया जाता है कि नवादा प्रधान डाकघर में हुए बहुचर्चित 5. 57 करोड़ के घोटाले की जांच कर रही सीबीआई की टीम बीते 2 महीने में पांचवी बार नवादा पहुंची। दोपहर करीब 11 बजे सीबीआई अधिकारी प्रधान डाकघर में दाखिल हुए। इस दौरान हेडपोस्ट ऑफिस के दस्तावेजों को खंगाला गया। बैंक और पोस्टऑफिस के बीच हुए जमा निकासी से जुड़े एंट्री रजिस्टर को देखने वाले कर्मचारियों से बारी-बारी से पूछताछ की गई। और अन्य कागजात पिछले सप्ताह ही अपने साथ ले गई थी।

जाने क्या है मामला
बता दें कि साल 2019 के शुरुआत में नवादा प्रधान डाकघर में घोटाला सामने आया था। तत्कालिक खजांची अंबिका चौधरी के ट्रांसफर होने के बाद जब कागजात का स्थानांतरण हुआ तो प्रधान डाक घर में करोड़ों रुपए का कैश शार्टेज आने के बाद हड़कंप मच गया था। कैश गायब होने का मामला सामने आने के बाद जांच शुरू हुई। जांच कमेटी की रिपोर्ट में पोस्टमास्टर और कैशियर की मिली भगत से करोड़ों की वित्तीय अनियमितता सामने आई। जांच आगे बढ़ी तो घोटाले की राशि 5 करोड़ पार कर गई। मामला इतना बड़ा हुआ कि इसकी जांच सीबीआई को सौंप दी गई। नामजद दो आरोपियों में से मुख्य आरोपी कैशियर अंबिका चौधरी की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है ।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने काम को नया रूप देने के लिए ज्यादा रचनात्मक तरीके अपनाएंगे। इस समय शारीरिक रूप से भी स्वयं को बिल्कुल तंदुरुस्त महसूस करेंगे। अपने प्रियजनों की मुश्किल समय में उनकी मदद करना आपको सुखकर...

    और पढ़ें