पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चिंताजनक:सिगरेट, अलाव और लापरवाही से ठंड में भी जल रहे खलिहान, खाक हो रहे हैं किसानों के अरमान

नवादा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रोह के कोशी रूखी के खलिहान में लगी आग, जिले में 15 दिनों के भीतर लगभग 30 अगलगी की हो चुकी है घटनाएं

बढ़ रही ठंड में जल रहे अलाव, लाेगाें के द्वारा जलाए जा रहे सिगरेट व जल रही बिजली के शाॅर्ट-सर्किट से उठ रही चिंगारी से हर दिन आग लगने की घटना घट रही है, और इसका नुकसान किसानों को उठाना पड़ता है। इसके साथ ही हर दिन किसानों के कई अरमान भी खाक हो रहे हैं। जिले में पिछले 15 दिनों के भीतर करीब 30 अगलगी की घटनाएं हो हुई है। करीब 50 लाख से अधिक का धान जलकर राख हो चुका है। सोमवार की रात आगलगी का कहर फिर किसानों पर टूटा और खालिहान में लगी आग से किसानों के मुंह का निवाला छीन गया।

मामला रोह प्रखंड क्षेत्र के कोसी रुखी पंचायत के वार्ड 10 का है जहां मंगलवार की दो बजे रात में धान का पुंज में आग लग गई। आग लगने से लाखों रुपए के अनाज जलकर राख हो गए। इसमें वर्तमान मुखिया अरविंद कुमार गुप्ता व उनके सगे भाई मनोज कुमार गुप्ता सहित दो अन्य किसान दशरथ मांझी, मुनेश्वर कुमार की पुंज भी शामिल है। किसान मनोज कुमार गुप्ता ने बताया कि कोशी-रुखी सड़क मार्ग के किनारे खलिहान में करीब एक दर्जन किसानों का धान रखा हुआ है। कुछ पुंज लगा है तो कुछ बोझे ऐसे ही रखें हैं। इसी खलिहान में अचानक आग लग जाने से यह हादसा हुआ।

लोन और सूद पर पैसा लेकर धान उपजा रहे, अब खाने को भी पड़े लाले, 6 किसानों की सालभर की मेहनत राख में बदली

पुआल पर शीत के कारण बचे अन्य किसानों के धान
स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि मध्य रात्रि में आग लगी थी। पुआल पर शीत रहने के कारण ज्यादा नुकसान होने से बच गया तथा ग्रामीणों के सामूहिक प्रयास से खलिहान में आग फैलने से रोक लिया गया। फिर भी इन घटनाओं में काफी नुकसान हो गया। आग की लपटें इतनी तेज थी कि एक के बाद खलिहान में रखे 4 धान के पुंज को अपनी चपेट में लिया। इस दौरान आग पर काबू पा लिया गया लेकिन धान की पुंज आग लगने एवं बुझाने के दौरान पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया।
क्षतिपूर्ति के लिए दिया आवेदन, लगाई गुहार
आग कैसे लगी है इसका पता नहीं चल पाया है। इस प्राकृतिक आपदा को लेकर मुखिया ने अंचल प्रशासन को आवेदन देकर क्षति पूर्ति के लिए मुआवजा देने की मांग की है। इस अगलगी की घटना में किसान जयप्रकाश साव, मनोज कुमार गुप्ता, आदित्य कुमार साव, दशरथ मांझी तथा मुनेश्वर कुमार को काफी क्षति हुई है। सभी ने अंचल कार्यालय में आवेदन देकर मुआवजा की मांग की है।
अचानक आग की लपट देख रात में मचा कोहराम
बताया जाता है कि सोमवार की रात सब लोग सो रहे थे तभी मंगलवार की अहले सुबह करीब 2:00 बजे किसी ने खलिहान से आग की लपटें उठते देखा। इसके बाद आग लगने की शोर मचा तो, ग्रामीण बाल्टी व तसला के साथ ही समरसेबल और मोटर पंप्सेट के पाइप लेकर दौड़े। समरसेबल को चालू कर आग बुझाने का काम शुरू कर दिया लेकिन आग बुझाना मुश्किल हो रहा था। मुखिया ने तुरंत जिला अग्निशमन विभाग को फोन कर इसकी सूचना दी। सूचना पाकर एक बरी अग्निशामक वाहन घटनास्थल पर आई। घंटों मशक्कत के बाद अग्निशामक व ग्रामीणों के प्रयास से आग को बुझा लिया गया और इसके चलते बाकी किसानों का पुंज जलने से बच गई।
ठंड के मौसम में घटनाओं में हुआ इजाफा, किसानों में मायूसी
5 दिसंबर को महकार गांव में अगलगी की घटना घटी थी 8 दिसंबर को बेनीपुर गांव में रामचंद्र महतो व धर्मेंद्र प्रसाद के खलिहान में आग लगी की घटनाएं घटी थी 23 दिसंबर को महरामा गांव में विनोद माहतो प्रदीप महतो अरविंद महतो के खलिहान में आग लगी थी 25 दिसंबर को बारापांडे गांव में आग लगी थी जिसमें राजेंद्र यादव के धान का पुंज जलकर राख हो गया था 27 दिसंबर को मरूई पंचायत के ठाकुरपुर टोला में किसान अशोक सिंह के खलिहान में आग लगने से हजारों की क्षति हुई थी। अंचलाधिकारी सौम्या ने बताया कि अब तक अगलगी की घटनाओं में किसानों के द्वारा 6 आवेदन प्राप्त हुआ है आगे की कार्यवाही के लिए सभी आवेदन को अनुमंडल कार्यालय के यहां फॉरवर्ड कर दिया गया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज समय कुछ मिला-जुला प्रभाव ला रहा है। पिछले कुछ समय से नजदीकी संबंधों के बीच चल रहे गिले-शिकवे दूर होंगे। आपकी मेहनत और प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। किसी धार्मिक स्थल पर जाने से आपको...

    और पढ़ें