कालाबाजारी:हिसुआ में डीएपी का स्टॉक खत्म, विकल्प के रूप में कालाबाजारी कर बेचे जा रहे खाद

नवादा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कहा तो जाता है कि जिला प्रशासन द्वारा खाद की कालाबाजारी रोकने को लेकर कई तरह के कदम उठाए जा रहे हैं लेकिन जमीन पर ऐसा नहीं दिख रहा। क्षेत्र में डीएपी खाद मिल नहीं रहा है। इसके विकल्प में जो खाद मिल रहा है वह कालाबाजारी करके महंगा बेचा जा रहा है। कार्रवाई के नाम पर भी कुछ नहीं हो पा रहा। सारे दुकानों में तय दर से अधिक मूल्य पर किसानों को खाद बेचा जा रहा है। हिसुआ के कुशल बीज भंडार, कांधवे ट्रेडर्स, किसान बीज भंडार, मोहम्मद शमशाद बीज भंडार, संतोष ट्रेडर्स, लक्ष्मी बीज भंडार सहित नगर के विभिन्न लाइसेंसी दुकानों में खाद विक्रेताओं द्वारा सरकारी मूल्य 266.67 की जगह 380 रुपये से लेकर 400 रुपये के मूल्य में यूरिया बेचा जा रहा है, वही डीएपी के जगह विकल्प के तौर पर उपलब्ध मिक्सचर 1500 से 1800 रुपये के बीच में धड़ल्ले से बेचा जा रहा है। उक्त दुकानों में जाकर जब पडताल की गई तो दुकानदार होलसेलर द्वारा ही सरकारी रेट से अधिक में खाद उपलब्ध कराने की बात कह कर रोना रोते दिखे । दुकानदार का कहना है कि चुकी हमको बढ़े हुए दाम पर खाद मिलता है लिहाजा अधिक मूल्य पर खाद बेचना हमारी मजबूरी भी है। हालांकि स्थिति चाहे जो हो और दुकानदार जो भी दलील दे लेकिन किसानों को भारी नुकसान झेलना पड़ रहा है।

कहते हैं अिधकारी
निगरानी की जा रही है। जितने भी लोग इस कार्य में संलिप्त हैं उनके विरुद्ध कानूनी रूप से कार्रवाई की जाएगी। कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और उनके लाइसेंस को भी रद्द किया जाएगा।
-रास बिहारी, बीएओ
^खाद कि कालाबाजारी कर रहे दुकानदारों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी।
उमेश कुमार भारती, अनुमंडल पदाधिकारी सदर नवादा।

खबरें और भी हैं...