पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हंगामा:नूरसराय में हाइवा की टक्कर से पिकअप में फंसे चालक ने तड़प-तड़पकर तोड़ा दम, लोगों का हंगामा

नवादा19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दुर्घटनाग्रस्त वाहन - Dainik Bhaskar
दुर्घटनाग्रस्त वाहन

मौके पर पहुंचे दारोगा ने चालक को निकालने में नहीं की ग्रामीणों की मदद
नूरसराय थाना क्षेत्र के बिहटा-सरमेरा एनएच 78 पर जूहीचक मोड़ के समीप बुधवार की अल सुबह हाइवा की टक्कर से पिकअप चालक की मौत हो गई। वाहन से निकालने में देरी होने पर चालक ने तड़प-तड़पकर दम तोड़ा। नागरिक दारोगा पर रेस्क्यू में सहयोग नहीं करने का आरोप लगा रहे हैं। मृतक पटना जिला के धनरुआ थाना क्षेत्र के रूपसपुर गांव निवासी जवाहर पासवान का 28 वर्षीय पुत्र रवि पासवान है। पुलिस शव को कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल ले गई। प्लास्टिक पाइप लोड पिकअप भागलपुर जा रहा था। उसी दौरान विपरीत दिशा से आ रहे हाइवा ने पिकअप में जोरदार टक्कर मार दी। जिससे दोनों वाहन सड़क किनारे गड्‌ढ़े में पलट गए। टक्कर से वाहनों के परखच्चे उड़ गए थे।

चालक, गंभीर रूप से जख्मी हो पिकअप में फंस गया। ग्रामीण घटना की जानकारी पुलिस को दे, चालक को निकलने के लिए रेस्क्यू चलाने लगे। आधे घंटे के बाद पुलिस आ गई। पुलिस वाहन का चालक और दो गार्ड चालक को निकालने में नागरिकों का सहयोग कर रहा था। जबकि, चालक को निकालने के लिए गैस कटर की जरूरत थी। ग्रामीणों ने दारोगा अजय पासवान को गैस कटर और एंबुलेंस की व्यवस्था करने को कहा। पदाधिकारी ग्रामीणों की बात अनसुनी कर दूर चले गए। किसी तरह नागरिकों ने गैस कटर लाया। तब वाहन काट, चालक को निकाला गया। हालांकि, तब तक चालक की मौत हो चुकी थी। ग्रामीणों ने बताया कि दारोगा सहयोग करते तो गैस कटर उपलब्ध होने में देरी नहीं होती। समय पर इलाज मिलने से चालक की जान बच सकती थी। थानाध्यक्ष विरेंद्र चौधरी ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद शव परिवार को सौंप दिया गया।
वाहन जब्ती में पुलिस की दिलचस्पी
जूहीचक मोड़ डेंजरजोन साबित हो रहा है। माह भर के दौरान यहां दुर्घटना में चार लोगों की की जान जा चुकी है। जख्मी को इलाज के लिए अस्पताल ले जाने के बजाय पुलिस की दिलचस्पी वाहन जब्ती में होती है। ताजा घटना के बाद नागरिक पुलिस की निंदा कर रहे हैं। दारोगा का सहयोग मिलने पर पिकअप चालक की जान बचाई जा सकती थी।

खबरें और भी हैं...