बॉर्डर पर तस्करी का काला खेल:तस्कर को छोड़ने के लिए एक्साइज सिपाही ने अकाउंट में मंगाया 20 हजार, फोन खुला तो तस्करों पर एफआईआर

नवादा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

झारखंड से बिहार घुसने की कोशिश करते 5 तस्करों को करीब 5 पांच लाख मूल्य के गांजा के साथ गिरफ्तार किया गया है। हालांकि इस दौरान तस्करों और पुलिस के गठजोड़ का काला सच भी सामने आया। गंजा तस्करों को पकड़ने वाली उत्पाद पुलिस के ही एक सिपाही ने तस्कर को छोड़ने के लिए रिश्वत के तौर पर 20000 अपने खाता में मंगवा लिया। हालांकि वह तस्कर को छोड़ने में कामयाब नहीं हो पाया और भेद खुलने के बाद सभी तस्करों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। निरीक्षक राम प्रीति कुमार ने बताया कि झारखंड की ओर से आने वाले वाहनों की जांच चल रही थी इसी दौरान रांची से बेतिया जा रही जय माता दी बस से पांच बैग में 45 किलो गांजा बरामद किया गया। वाहन के चालक व उपचालक की पहचान पर बस में सवार 5 तस्करों को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि धंधेबाज के रूप में पहचान रुपईटांड़ थाना भितहा जिला पश्चिम चंपारण बेतिया निवासी स्व. भोज पटेल के पुत्र प्रेम पटेल, बृजेंद्र यादव के पुत्र प्रिंस कुमार, अर्जुन कुशवाहा के पुत्र भोला कुमार कुशवाहा,योगेंद्र यादव के पुत्र छोटू यादव एवं उमेश कुमार गुप्ता के पुत्र सुदर्शन गुप्ता के रूप में की गई है। इधर पकड़े गये तस्करों में से दो को छोड़ने के लिए सौदेबाजी का मामला सामने आया है।

गिरफ्तार भोला कुमार एवं छोटू कुमार यादव को छोड़ने के एवज में उत्पाद विभाग के सिपाही रमेश कुमार ने 20 हजार रुपये अपने पर फोन पे पर तस्कर के परिजन के द्वारा ट्रांसफर करवाया है। लेकिन मामला खुल गया और इसकी भनक उत्पाद अधीक्षक अनिल कुमार आजाद को भी लग गई। इसके बाद उत्पाद अधीक्षक ने उत्पाद निरीक्षक को सभी पांचों तस्करों को गिरफ्तार कर प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया।
हो रही जांच, कार्रवाई संभव
उत्पाद अधीक्षक ने बताया कि मामले की जांच हो रही है। पैसे लेने की जानकारी हमें भी मिली है। इसकी जांच कर सिपाही रमेश कुमार पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि जांच चौकी पर पूरी मुस्तैद एवं निष्पक्ष रुप से जांच अभियान चलाया जाएगा।जिससे किसी को कोई परेशानी नहीं होगी गलत करने वाले लोगों के ऊपर कार्यवाही की जाएगी।उन्हें किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा।

खबरें और भी हैं...