पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बक्सर के बाद नवादा ग्रामीण बैंक में फ्रॉड:पूर्व मैनेजर ने दो स्टाफ के साथ मिल 21 FD खातों से 92 लाख की हेराफेरी की, नए मैनेजर ने थाने में कराया FIR

नवादाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वारिसलीगंज थाने में आवेदन के आधार पर तीन लोगों के खिलाफ FIR दर्ज किया गया है। - Dainik Bhaskar
वारिसलीगंज थाने में आवेदन के आधार पर तीन लोगों के खिलाफ FIR दर्ज किया गया है।

दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक में फ्रॉड कर करोड़ों के हेर-फेर के मामले बढ़ ही रहे हैं। बक्सर मामले के खुलासे के बाद अब ताजा मामला नवादा में सामने आया है। यहां वारिसलीगंज बाजार स्थित बैंक ब्रांच की पूर्व मैनेजर समेत तीन लोगों के खिलाफ 92।18 लाख रुपए की हेराफेरी का केस दर्ज हुआ है।

21 एफडी खातों से निकाले रुपए

जानकारी के अनुसार ब्रांच के वर्तमान मैनेजर विनय कुमार के द्वारा थाना को आवेदन दिया गया है। इसमें कहा गया है कि 2019 में ब्रांच मैनेजर रही मधुलिका रानी, सह प्रबंधक योगेश कुमार एवं बैंककर्मी विशाल कुमार ने यह गबन किया है। तीनों ने आपसी मिलीभगत कर विभिन्न ग्राहकों के 21 एफडी खातों के माध्यम से 92 लाख रुपए निकाल लिए हैं। मामले में वारिसलीगंज थाना प्रभारी पवन कुमार ने बताया है कि आवेदन के आधार पर तीन लोगों के खिलाफ FIR दर्ज किया गया है। आगे की जांच की जा रही है।

बक्सर ब्रांच में एक करोड़ से अधिक की निकासी

ऐसे ही एक मामले का खुलासा बक्सर जिले के आशा पड़ारी में दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक की ब्रांच में हुआ था। इसमें एक करोड़ से भी अधिक रुपए की निकासी मामले में मैनेजर रविशंकर कुमार के खिलाफ दो स्तरों पर जांच चल रही है। रविशंकर कुमार को बक्सर पुलिस ने रविवार को ही पटना से गिरफ्तार किया है।

वह इतना शातिर था कि बैंक के कस्टमर को न पासबुक प्रिंट करने देता था और न उन्हें SMS ही भेजता था। वहीं, उसको जानने वालों का कहना है कि वो शेयर बाजार से रातों रात अमीर बनने का सपना देखने लगा था। ट्रेडिंग में पैसा लगाने की लत ने उसे घोटालेबाज बना दिया।

खबरें और भी हैं...