पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ई-लॉट्स व दीक्षा पोर्टल पर 3000 से अधिक ई-कंटेंट:जिले से लेकर प्रखंड के अधिकारी प्राथमिक शिक्षा निदेशक के वेबिनार से जुड़े

नवादा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना काल में बच्चों की पढ़ाई बाधित है। न जाने कब तक स्कूल बंद रहेगा। स्कूल बंद रहने से प्राइवेट स्कूल के बच्चे तो किसी तरह ऑनलाइन माध्यमों से पढ़ाई पूरी कर ले रहे हैं। लेकिन सरकारी स्कूल के बच्चे पिछड़ रहे हैं। अगर इनके लर्निंग लॉस्ट पर ध्यान नहीं दिया गया तो ये बच्चे काफी पिछड़ जाएंगे। लेकिन अब बच्चों के लर्निंग लॉस्ट को पूरा करना है।

कोरोना के दौर में लोग मानसिक रुप से कमजोर हुए हैं। उसे भी मजबूत करना है। कहा जाता है कि खाली दिमाग शैतान का। इसलिए जरुरत है कि घर में रहकर भी बच्चों के लर्निंग लॉस्ट को मेंटेंन किया जाए। उक्त बातें प्राथमिक शिक्षा निदेशक डॉ रंजीत कुमार ने रविवार को यू ट्यूब लाइव वेबिनार के दौरान अपने संबोधन में कही।

ई- लर्निंग के सहारे पूरी कर सकते हैं पढ़ाई, 3000 लर्निंग कंटेंट्स उपलब्ध: निदेशक ने कहा कि बच्चों के लर्निंग कमी को पूरा करने के लिए ई लर्निंग का सहारा लिया जा सकता है। इसके लिए शिक्षक वाट्सएप, जूम आदि माध्यमों से बच्चों के साथ जुड़ सकते हैं। उन्होंने कहा कि ई लॉट्स,दीक्षा आदि पोर्टल पर 3000 से अधिक ई कंटेंट उपलब्ध है। इसके अलावा स्कूल के सभी पाठ्यपुस्तकों में प्रत्येक पाठ में क्यूआर कोड दिया हुआ है जिसमें पाठ से संबंधित वीडियो आदि भी मौजूद है। शिक्षक या छात्र क्यूआर कोड स्कैन कर सहयोग ले सकते हैं। साथ ही सभी बच्चों का वाट्सएप ग्रुप बनाकर, बच्चों के पास स्मार्ट फोन नहीं है तो अभिभावकों के वाट्सएप से जुड़कर व जूम के माध्यम से अध्ययन अध्यापन को जारी रख सकते हैं। शिक्षक अगर मेहनत से पढ़ाना शुरू करें तो बच्चे कल होकर बड़े बड़े मुकाम हासिल कर सकते हैं और डॉक्टर, आईएस,आपीएस भी बन सकते हैं।

5 जून से शुरू होगा प्रशिक्षण, सभी शिक्षकों के लिए अनिवार्य
आगामी 5 जून से विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर शिक्षकों के लर्निंग कैपिसिटी को बढ़ाने के लिए दीक्षा एप के माध्यम से ऑनलाइन प्रशिक्षण शुरु होगा। डायरेक्टर ने कहा कि लर्निंग कैपिसिटी को बढ़ाना है और बच्चों तक पहुंचाना है। प्रशिक्षण शुरु होने से पूर्व सभी शिक्षक दीक्षा एप में प्रोफाइल को अपडेट कर लेंगे। ताकि प्रशिक्षण समाप्ति के पश्चात प्रमाण पत्र दिया जा सके।

ज्ञानवर्धक, उत्साहवर्धक, प्रेरणादायक रहा : डीपीओ

समग्र शिक्षा अभियान के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी मो. जमाल मुस्तफा ने कहा यू ट्यूब लाइव सत्र ज्ञानवर्धक, प्रेरणादायक रहा। ऐसा सेशन समय की अहम ज़रूरत है। दीक्षा एप प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी, बीआरपी सीआरसीसी एवं सभी शिक्षक अनिवार्य रूप से डाउनलोड करना सुनिश्चित करें। आज डिजिटल ऑनलाइन शिक्षा समय की अहम जरुरत है। दीक्षा एप पर उपलब्ध और अन्य डिजिटल माध्यम को सभी शिक्षक व्यवहार में लाएं एवं ज्ञान को सीखने और सिखाने के रूप में साझा करें तथा नौनिहालों के भविष्य को संवारने और सजाने में अपने पदीय कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए रॉल मॉडल के रूप में सामने आएं।

खबरें और भी हैं...