एक्टिव मोड में प्रशासन:शहर को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए खुरी नदी पुल से हटाईं सैकड़ों दुकानें, दी चेतावनी

नवादा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अतिक्रमण हटाने के दौरान लोगों को आदेश देते अधिकारी। - Dainik Bhaskar
अतिक्रमण हटाने के दौरान लोगों को आदेश देते अधिकारी।
  • वेंडिंग जोन में जाने का निर्देश, सड़क किनारे से हटाए गए स्थाई और अस्थाई अतिक्रमण

शहर को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए प्रशासन एक बार फिर एक्टिव मोड में दिख रहा है। शुक्रवार को नवादा सदर प्रखंड प्रशासन और नगर परिषद की टीमों ने नवादा शहरी क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में अतिक्रमण हटाया और दोबारा अतिक्रमण नहीं करने की चेतावनी दी। सदर प्रखंड विकास पदाधिकारी अंजनी कुमार तथा नगर परिषद के कार्यपालक अधिकारी कन्हैया कुमार के नेतृत्व में चले इस अभियान के दौरान शहर के खुरी नदी पुल के दोनों किनारों पर लगे स्थाई और अस्थाई अतिक्रमण को धराशाई कर दिया गया।

अतिक्रमण करने वाले दुकानदारों को फटकार भी लगाई गई। अधिकारियों ने कहा कि जिलाधिकारी के निर्देश पर शहर में अतिक्रमण के खिलाफ अभियान शुरू हुआ है। शहर के प्रमुख सड़कों और चौक-चैराहों पर से ठेले- खोमचे हटाए जा रहे हैं। नवादा बीडीओ और नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी ने बताया कि जाम से मुक्ति दिलाने के लिए क़वायद की जा रही है। कार्यपालक पदाधिकारी ने बताया कि फुटपाथ ही दुकानदारों के लिए वेंडिंग जोन अलाउड किया गया है। नदी पुल के नीचे सहित आने जगहों पर फुटपाथ दुकानें लगाने के लिए जगह निर्धारित है इसके बावजूद लोग नहीं जा रहे हैं। अंत में कार्रवाई की जा रही है और सभी को यहां से हटाकर वेंडिंग जोन भेजा जा रहा है।

खोमचे वालों को दी हिदायत
दुकानों के अलावा ठेला रिक्शा को भी हिदायत दी गई है। अधिकारियों ने कहा कि वर्जित जगह पर कोई ठेला-रिक्शा नहीं लगेगा। किसी प्रकार की ढिलाई बरदाश्त नहीं की जाएगी। नगर परिषद के कार्यपालक अधिकारी कन्हैया कुमार ने बताया कि अतिक्रमण को लेकर बार-बार चेतावनी दी जा रही है। लापरवाही बरतने वालों पर कड़ी कार्रवाई होगी। नगर परिषद अतिक्रमण एक्ट के तहत कार्रवाई का प्रावधान है। जो नियम का उल्लंघन करेंगे उनके खिलाफ जुर्माना लगाया जाएगा और जरूरत हुआ तो एफ आई आर दर्ज कराई जाएगी।

जाममुक्त शहर बनाने की अपील
प्रशासन ने शहर को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए लोगों से सहयोग करने की अपील की है। कार्यपालक अधिकारी ने कहा कि अतिक्रमण के चलते सब को दिक्कत होती है। जो दुकानदार अपनी दुकान के पास अतिक्रमण करते हैं उन्हें भी इससे परेशानी होती है और उनका कारोबार प्रभावित होता है। ऐसे में वह प्रशासन का सहयोग करें नहीं तो मजबूरन दंडात्मक कार्रवाई करनी पड़ेगी। अधिकारियों ने दुकानदारों को कहा कि सड़क पर बाइक खड़ाकर न तो दुकानदारी करें और न हीं किसी को बाइक लगाकर खरीददारी करने दें। संभल जाए नहीं तो फिर एफ आई आर दर्ज होगा।

बार-बार हिदायत के बाद भी नहीं मान रहे अतिक्रमणकारी
बता दें कि प्रशासन द्वारा बार-बार प्रयास के बाद भी अतिक्रमण कारी मान नहीं रहे हैं। हर महीने दो महीने पर अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाता है। इस दौरान शहर के हरेक प्रमुख मार्ग से अतिक्रमणकारियों का कब्जा लुप्त सा हो जाता है। लेकिन कुछ दिन बाद ही स्थिति जस की तस हो जाती है। अभी जब शहर में अतिक्रमण के खिलाफ प्रशासनिक अभियान चल रहा है तो शहर के प्रजातंत्र चौक से रजौली बस स्टैंड तक सड़क पर ठेले खोमचे नहीं के बराबर है। इससे नए पुल तक वाहनों की आवाजाही में भी कम परेशानी हो रही है। लेकिन यह स्थिति कब तक रहेगी कहना मुश्किल है।
गाइडलाइन के उल्लंघन का कारण बनते हैं अतिक्रमणकारी
अतिक्रमण करके बेतरतीब दुकानें खुलने के कारण भीड़ भी अनियंत्रित रहती है। अभी कोरोना के मामले फिर से बढ़ने लगे हैं ऐसे में बाजार में जहां-तहां अतिक्रमण करके खोली गई दुकाने जाम का सबब बनती है । इसके चलते भीड़ भी लगती है और कोरोना की गाइडलाइन टूटती है।

खबरें और भी हैं...