• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Nawada
  • If 20 Lakh Rupees Were Not Received, The Brother in law Kidnapped The Youngest Brother in law, Took Out His Eyes

10 मार्च को था बच्चे का बर्थडे, जीजा बना हत्यारा:20 लाख रुपए नहीं मिले तो बहनोई ने सबसे छोटे साले को किया अगवा, आंख तक निकाली

नवादा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अंशु की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
अंशु की फाइल फोटो।

मासूम अंशु की निर्मम हत्या ने नवादा को झकझोर दिया है। मंगलवार को गया के नीमचक बथानी थाना इलाके में एक पहाड़ी के पास बच्चे का शव मिला। आरोप है कि बच्चे के जीजा ने ही ससुर से 20 लाख रुपए ना मिलने से नाराज होकर उसकी हत्या कर दी। चेहरे को तेजाब से जला दिया और आंखें तक निकाल ली। बच्चे का 10 मार्च को 8वां जन्मदिन था। परिजन बर्थडे सेलिब्रेट करने की तैयारी में थे, पर इस घटना के बाद से परिजन सदमे में हैं। रो-रोकर उनका बुरा हाल हो गया है।

बिहार में 8 साल के बालक की निर्मम हत्या

पुलिस ने मृतक के जीजा इंद्रजीत कुमार, जीजा के पिता संजय यादव व चाचा विकास कुमार को गिरफ्तार कर लिया है।
पुलिस ने मृतक के जीजा इंद्रजीत कुमार, जीजा के पिता संजय यादव व चाचा विकास कुमार को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस ने अंशु हत्याकांड के आरोप में उसके जीजा इंद्रजीत कुमार, जीजा के पिता संजय यादव और चाचा विकास कुमार को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, इंद्रजीत की अंशु की बहन से एक साल पहले ही शादी हुई थी।

अंशु का शव गया जिले से बरामद किया गया।
अंशु का शव गया जिले से बरामद किया गया।

अभी कुछ दिनों पूर्व अंशु के पिता सुनील कुमार ने अपनी एक जमीन 40 लाख रुपए में बेची थी। इंद्रजीत को जब इसकी जानकारी मिली तो उसने ससुर से 20 लाख रुपए किसी काम के लिए मांगे थे, पर इंद्रजीत को रुपए नहीं मिले। इसके बाद से इंद्रजीत अपने ससुराल पक्ष से नाराज था।

रोते-बिलखते परिजन।
रोते-बिलखते परिजन।

अंशु अपने परिवार में तीन बहन और दो भाई में सबसे छोटा था। उसकी हत्या ने पूरे परिजनों को सदमे में ला दिया है। अंशु की हत्या उसके अपहरण के बाद की गई है। परिजनों के अनुसार, अंशु 8 जनवरी को घर के पास साइकिल चला रहा था। तभी उसे अगवा कर लिया गया। देर रात तक परिजनों ने उसे ढूंढ़ा पर कुछ पता नहीं चला। इसके बाद अंशु के दादा ने थाने में 3 लोगों के खिलाफ अपहरण की FIR दर्ज करवाई। इस मामले में पुलिस पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए परिजनों ने 9 जनवरी को रोड जाम भी किया था।

आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।
आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

नगर थाना में सदर SDPO उपेंद्र कुमार ने बताया कि इंद्रजीत ने ससुराल की संपत्ति के लालच में अंशु को अगवा किया और उसी दिन उसकी हत्या कर दी। इसमें उसके पिता व चाचा ने सहयोग किया। आरोपित बहनाेई अपने दूसरे साला बसंत कुमार की भी हत्या करने का मन बनाया था। ताकि दोनों बेटों के मर जाने के बाद संपत्ति का मालिक बन सके। पर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। घटना में प्रयुक्त बाइक व मोबाइल बरामद किया गया है।

इनपुट: अमन सिन्हा।

खबरें और भी हैं...