पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आस्था:सिर पर छठ की डलिया और हाथ में जल पात्र ले मां-पिता को छठ कराने पहुंचे ईशान किशन

नवादा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • महापर्व छठ की आस्था में सराबोर दिखे मुंबई इंडियंस के बल्लेबाज ईशान किशन

आईपीएल के मौजूदा सीजन में मुंबई इंडियंस के बेहतर प्रदर्शन में अहम भूमिका निभाने वाले ईशान किशन छठ पूजा के दौरान भक्ति से सराबोर दिखे। भारतीय क्रिकेट के उदयीमान खिलाड़ी ईशान किशन छठ पूजा के दौरान नवादा स्थित अपने घर पहुंचे और भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया। वे जैसे हीं अपने दादी और नवादा की पूर्व सिविल सर्जन डॉ सावित्री शर्मा के नवादा पुरानी जेल रोड स्थित घर पहुंचे लोगों का तांता लग गया। इंसान पूरे 3 दिन यहां अपने परिवार के साथ रहे और मां व पिता द्वारा किए जा रहे छठ अनुष्ठान में शामिल हुए।

उन्होंने प्रसाद बनाने से लेकर हर ग्राम तक में मां और पिता के कामों में भी हाथ बटाया। क्रिकेट के मैदान में अपने बल्ले से धुआंधार छक्के जड़ने वाले ईशान किशन पूरी तरह अध्यात्मिक मिजाज में देखें। उन्होंने छठ का डलिया माथे पर लेकर घर के हीं एक हिस्से में बने कुंड तक पहुंचाया। भगवान भास्कर को अर्घ्य दान दिया और जल पात्र से दूध और जल अर्पित किया।

भक्ति के साथ मिलता है परिवार की सेवा का मौका
इशान किशन कहते हैं कि मैं बचपन से ही मां के कार्यों में हाथ बटाता रहा हूं । आज मैं भले ही क्रिकेट खिलाड़ी बन गया हूं। फिर भी मां के कार्यों में हाथ बटाना नहीं भूलता । ईशान ने कहा कि छठ पर्व अपने आप मे बहुत ही बड़ा और महान पर्व है.। सभी पर्व से इसकी महत्ता कहीं अधिक है.। इसलिए अगर आप घर से दूर है तो छठ के मौके पर अपने घर जरूर पहुंचें और परिवार के साथ यह पर्व मनाएं.।

कई साल बाद छठ में नवादा पहुंचे किसान
एहसान कई साल बाद छठ के दौरान नवादा पहुंचे हैं। उनकी माता सुचित्रा और पिता प्रणव पांडेय कई सालों से छठ करते आ रहे हैं. शुरुआती समय में आहर उत्सव अवसरों पर ईशान परिवार के साथ होते थे लेकिन बाद में और के व्यस्तता बढ़ गई। ईशान इस बार कई सालों के बाद छठ में अपने घर पहुंचे. उन्होंने कहा कि छठ पर घर आने पर बहुत खुशी मिल रही है.।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें