सबैत का खोंदुपुर माैजा:पहला मौजा के रैयतों के बीच खेसरा मानचित्र वितरण

नवादा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिलाव में एलपीएम लेते रैयत। - Dainik Bhaskar
सिलाव में एलपीएम लेते रैयत।
  • खोंदुपुर मौजा में कुल 343 खेसरा था। नए सर्वेक्षण के बाद इसकी संख्या बढ़कर 1217

सिलाव प्रखंड का पहला राजस्व गांव के रैयतों के बीच सर्वेक्षण पूरा कर एलपीएम (खेसरा मानचित्र) का वितरण किया गया। प्रखंड में शुरू किये गए विशेष सर्वेक्षण के तहत इस पहले पहला राजस्व गांव का सर्वे पूरा कर एलपीएम का वितरण किया गया है। बता दें कि प्रखंड के अंतर्गत कुल 50 राजस्व गांव है। जिसे विशेष सर्वेक्षण के लिए दो भाग में बांटा गया है। दोनों में कानूनगो और अमीन द्वारा सर्वेक्षण के कार्य किया जा रहा है। शिविर वन द्वारा सबैत पंचायत के खोंदुपुर मौजा का विशेष सर्वेक्षण पूरा कर लिया गया। जिसके बाद मंगलवार को जिला बंदोबस्त पदाधिकारी के द्वारा एलपीएम का वितरण रैयतों के बीच किया गया।
खेसरा की संख्या घटी
बंदोवस्त पदाधिकारी सतीश कुमार शर्मा ने बताया कि सिलाव अंचल के खोंदुपुर मौजा में कुल 343 खेसरा था। नए सर्वेक्षण के बाद इसकी संख्या बढ़कर 1217 हो गयी है। उन्होंने बताया कि सर्वेक्षण में पूरी सावधानी बरती गई है। सभी रैयतों को प्लॉटवार एलपीएम दिया गया है। साथ ही रैयत को यह भी बताया गया है कि एलपीएम को समझ बुझकर संतुष्ट हों जायें। यदि इसमे किसी तरह की कोई भी त्रुटि नजर आती है तो प्रपत्र 8 का फार्म भरकर अपनी दावा आपत्ति प्रस्तुत करें। जिसे 15 दिनों के अंदर कानूनगो द्वारा निष्पादित किया जाएगा।

बंदोबस्त पदाधिकारी ने बताया कि इस मौजा में भी कुछ भूमि का दस्तावेज रैयत द्वारा प्रस्तुत नहीं किया गया है। जिसे अनावाद बिहार सरकार कर दी गयी है। खोंदुपुर मौजा के करीब 150 से अधिक रैयतों ने भूमि का एलपीएम लिया। रैयत रामविलास प्रसाद सर्वेक्षण कार्य से संतुष्ट थे। वहीं रामप्रवेश यादव ने कहा कि एलपीएम में कुछ त्रुटि है। उनका कहना है कि कुछ भू-भाग उनके हिस्से में होने के बावजूद किसी और का कब्जा है। जिसमें सुधार नहीं किया गया है। इस मौके पर डीसीएलआर राजगीर संजय कुमार, बंदोवस्त पदाधिकारी रविन्द्र कुमार भारती, सहायक बंदोवस्त पदाधिकारी सपना कुमारी, कानूनगो धीरू कुमार, अमीन प्रहलाद आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...