शराबबंदी का प्रमाण देख लीजिए:बिहार में शराब पीना मना, लेकिन नवादा में तो लड़कों ने खुली पार्टी ही कर दी, यहीं कल 9 की हुई थी मौत

नवादा2 वर्ष पहले
नवादा के पकरीबरावां में दारू पार्टी करते लड़के।

बिहार में शराब पीना और बेचना मना है। पकड़े जाने पर सलाखों के पीछे जाना पड़ सकता है, लेकिन एक वीडियो उसी जिले से वायरल हो रही है, जहां कल शराब पीने से 9 लोगों की मौत हो गई। यह तस्वीर नवादा के पकरीबरावां की है। लड़के न केवल खुलेआम जाम छलकाते हुए डांस कर रहे हैं, बल्कि वीडियो भी बना रहे हैं।

पुलिस की मिलीभगत से शराब का धंधा
जिलेभर में खुलेआम शराब की बिक्री हो रही है। लोगों का आरोप है कि पुलिस की मिलीभगत से शराब कारोबारी दिन-रात फल-फूल रहे हैं। पकरीबरावां थाना क्षेत्र के एक गांव में होली के मौके पर दर्जनों युवकों के शराब पीकर झूमते हुए वायरल वीडियो ने पुलिस की परेशानी बढ़ा दी है।

दर्जनों गांवों में फल-फूल रहा शराब का कारोबार
पुलिस की अनदेखी के कारण इस इलाके में शराब माफिया घर-घर शराब पहुंचाकर लाखों की कमाई कर रहे हैं। शराब पीते यह वायरल वीडियो थाना से लेकर जिलाभर में चर्चा का विषय बना हुआ है। लोग सवाल उठा रहे हैं कि जब पुलिस शराबबंदी कानून को लेकर सख्त है तो थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों में शराब कैसे और कहां से पहुंच रही है। लोगों की मानें तो पकरीबरावां थाना क्षेत्र के विभिन्न चौक-चौराहों पर बेरोक-टोक अवैध शराब की बिक्री की जा रही है। थाना क्षेत्र में दर्जनों गांवों में अवैध शराब का कारोबार इन दिनों खूब फल-फूल रहा है। SDPO मुकेश कुमार साह ने बताया कि वायरल वीडियो से संबंधित जानकारी अब तक प्राप्त नहीं है।

युवा पीढ़ी को बर्बाद कर रही शराब की लत
नेशनल फेमिली हेल्थ सर्वे 5 (NFHS-5) की रिपोर्ट के मुताबिक बिहार के गांवों में 15 वर्ष से ऊपर के शराब पीने वालों की आबादी 15.8 प्रतिशत है। शराब की लत से युवा पीढ़ी बर्बाद हो रही है। हालांकि स्थानीय प्रशासन के द्वारा कई जगहों पर अवैध शराब दुकानों पर छापेमारी हुई, लेकिन नतीजा सिफर रहा।

खबरें और भी हैं...