सौगात:ऑक्सीजन प्लांट का प्रधानमंत्री ने किया उद्घाटन

नवादा18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सदर अस्पताल में आपूर्ति होने में दो सप्ताह की देरी संभव, रजौली का प्लांट पूरी तरह से तैयार

सदर अस्पताल के मरीजों को अब ऑक्सीजन की किल्लत नहीं होगी और निर्बाध रूप से उनके बेड तक ऑक्सीजन पहुंचेगा। प्रधानमंत्री केयर फंड से नवादा सदर अस्पताल में स्थापित ऑक्सीजन प्लांट का गुरुवार को उद्घाटन हो गया हालांकि इससे आपूर्ति होने में अभी 1 से 2 हफ्ते का समय लग सकता है। गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड , ऋषिकेश के एम्स से वर्चुअल माध्यम से नवादा के ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन किया। डीपीआरओ ने प्रेस रिलीज जारी कर इसकी जानकारी दी है।

जारी प्रेस रिलीज में कहा गया है कि देश भर के विभिन्न स्थानों पर निर्मित 35ऑक्सीजन प्लांट का प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा वर्ष और उद्घाटन किया गया है इन ऑक्सीजन प्लांटों में नवादा सदर अस्पताल का ऑक्सीजन प्लांट भी शामिल है। उद्घाटन के अवसर पर सिविल सर्जन डॉ निर्मला सिन्हा ने बताया कि नवादा सदर ऑक्सीजन प्लांट का काम अब आंशिक रूप से शेष रह गया है। मशीन को चालू कर चेक कर लिया गया है। यह बिल्कुल सही काम करता है। पाइप लगाने का कार्य प्रगति पर है। यहां गैस का रिफिलिंग 2 दिनों के अंदर चालू हो जाएगा।

रजौली का प्लांट तैयार
सिविल सर्जन डॉक्टर श्रीमती निर्मला कुमारी ने बताया कि रजौली में भी ऑक्सीजन प्लांट का कार्य पूर्ण हो गया है। रजौली का ऑक्सीजन प्लांट पूरी तरह फंक्शनल है और अभी जब चाहे वहां से ऑक्सीजन प्राप्त किया जा सकता है। सदर हॉस्पिटल में ऑनलाइन उद्घाटन के अवसर पर एसीएमओ डॉक्टर अखिलेश मोहन एसीएमओ, सत्येंद्र प्रसाद डीपीआरओ, डीआईओ डॉ अशोक कुमार, डॉ अजय कुमार उपाधीक्षक ,अमित कुमार डीपीएम जिला स्वास्थ्य समिति के साथ-साथ कई डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित थे। प्रधानमंत्री केयर ठंड से बने इस ऑक्सीजन प्लांट को राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण सहित चार विभागों ने स्थापित किया है।

ऐसे आई तकनीकी दिक्कत
इस संयंत्र में ऑक्सीजन उत्पादन के बाद मेरी फोल्ड चेंबर के जरिए ऑक्सीजन की सप्लाई पाइप लाइन में जाती है। पहले जो मॉडल उपलब्ध हुआ था उसमें एक चेंबर की बात थी लेकिन बाद में इंजीनियर ने 2 चेंबर लगाने को कहा। एक चेंबर कनेक्ट हो गया है जबकि दूसरे चेंबर का काम बाकी है। इसे लगाने के लिए फाउंडेशन ऊंचा करना होगा। इसे 6 इंच और ऊपर करके कनेक्ट किया जाएगा। इसके बाद उत्पादित ऑक्सीजन बेडों तक आपूर्ति के लिए तैयार हो जाएगी। विशेषज्ञों ने बताया कि करीब डेढ़ करोड़ की लागत से अस्पताल में जिस ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थापना की गई है इसमें फिलाह अस्पताल में ही ऑक्सीजन सप्लाई करने की क्षमता है।

खबरें और भी हैं...