पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कवायद:बच्चों में नशीली दवाओं का दुरुपयोग व तस्करी रोकने के लिए स्कूलों में गठन होगा प्रहरी क्लब

नवादा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकार के संयुक्त कार्य योजना के तहत राज्य परियोजना निदेशक के निर्देश पर किया जाएगा गठन

बिहार में सख्त शराब बंदी कानून लागू है। उक्त कानून के तहत शराब का सेवन करना या खरीद बिक्री करना दंडनीय अपराध है। शराब बंदी कानून लागू होने के बाद शराब पीकर हंगामा करने वाले लोगों में काफी कमी आई है। लेकिन कुछ लोग चोरी छिपे अन्य राज्यों से शराब मंगाकर शराब का सेवन कर ले रहे हैं। वहीं शराब बंदी के बाद शराब नहीं मिलने की वजह से कई लोगों ने अन्य नशीली दवाईयों का सेवन नशा के रूप में इस्तेमाल करनाप शुरू कर दिया है। बीते सोमवार को नवादा शहर में एक युवक नशे में धूत होकर जमीन पर पड़ा था। बार बार वह उठकर खड़ा होने का प्रयास करता लेकिन नशे की वजह से खड़ा नहीं हो पाता और लड़खड़ाकर गिर पड़ता। उस युवक को असहज देख आसपास के लोगों ने उसे सहारा देने का प्रयास किया तो उसके रुमाल में चिपकाने के लिए इस्तेमाल होने वाला फेवीक्यूक मिला। उक्त युवक के जब लोगों ने उत्सुकतावश उसके जेब को देखा तो उसमें भी 5 फेवीक्यूक मिला।

लोग खांसी की सिरप व नींद की दवा को नशा में इस्तेमाल करते है जो जानलेवा है

समग्र शिक्षा अभियान नवादा के डीपीओ मो. जमाल मुस्तफा ने बताया कि नशीली दवाओं दुरूपयोग एवं इसकी तस्करी रोकने के लिए भारत सरकार के संयुक्त कार्य योजना के तहत राज्य परियोजना निदेशक के निर्देश पर जिले के सभी सरकारी गैर सरकारी स्कूलों, काॅलेजों समेत मदरसा, संस्कृत विद्यालय आदि में प्रहरी क्लब का गठन किया जाना है। क्लब में 20-25 सदस्य होंगे जो स्कूल में अघ्ययनरत छात्र/छात्रा होंगे। प्रहरी क्लब का मोटो होगा एक युद्ध नशे के विरूद्ध। इसके तहत स्कूली बच्चे न केवल बच्चों के बीच अभिभावकों व ग्रामीणों को नशा सेवन से रोकेंगे।

प्रहरी क्लब के ये होंगे कार्य
प्रहरी क्लब जागरूक, संवेदनशील, नशापान विरोधी एवं मादक पदार्थो की तस्करी रोकने में सहायता करेगी। क्लब के अंतर्गत मानव जीवन में मादक द्रव्यों/पदार्थों के बुरे प्रभाव और उसके सेवन पर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। बच्चों को गांधी स्मृति सिद्धांतों के साथ प्रहरी बनने हंेतु उन्नमख एवं संवेदनशील बनाया जाएगा। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के साथ समन्वय स्थापित कर वर्तमान स्थिति के दृष्टिगत एकीकृत योजना बनाकर क्लब के माध्यम से बच्चों में जागरूकता पैदा किया जाएगा। यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि कोई व्यक्ति शराब, सिगरेट, अन्य तम्बाकू उत्पाद तथा नश्रूाील दवाएं किसी बच्चे को नहीं बेच रहा हो।

खबरें और भी हैं...