पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फसल व जनजीवन के लिए नहीं हैं अच्छे संकेत:गेहूं की वृद्धि के लिए अनुकूल नहीं है 15 डिग्री से अधिक तापमान

नवादा /अकबरपुर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बढ़ रहे तापमान ने दी ठंड से राहत, लेकिन किसानों की चिंता बढ़ी, पूस महीने में फाल्गुन जैसी गर्मी

ठंड के मुख्य समय माने जाने वाले जनवरी महीने में तापमान के बढ़ने के चलते ठंड से राहत तो मिली है, लेकिन किसानों की चिंता बढ़ गई है। ठंड में कमी आने से गेहूं की खेती प्रभावित होती है और जिले में 50 हजार हेक्टेयर से अधिक में गेहूं लगा है। लिहाजा लोगों के चिंता लाजमी है। आम तौर पर जनवरी का महीना कंपकपाती भीषण ठंड व कोहरे के लिए जाना जाता रहा है। हर साल ऐसी खबरें आती रही हैं कि ठंड ने इतने साल का रिकार्ड तोड़ा, ठंड से हुई मौत, लेकिन इस बार माहौल बदला-बदला सा दिखाई दे रहा है।

इस मौसम में ठंड से बचने के लिए जहां ग्रामीण क्षेत्रों में बोरसी, अलाव व रजाई, कम्बल के साथ-साथ हीटर का सहारा लेना पड़ता था वहीं अब रजाई बर्दाश्त नहीं हो रही है। दिन का तापमान 28 डिग्री सेल्सियस के करीब जबकि रात का तापमान 15 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच गया है। मौसम में आए यह बदलाव जनजीवन के लिए अच्छा संकेत नहीं है न ही फसलों के लिए अनुकूल है। और न ही ग्लोबल वार्मिंग के नजरिए से बेहतर साबित होगा। कुल मिलाकर यह सुखाड़ व अकाल का संकेत है।

इस साल कड़ाके की ठंड के आसार नहीं
इस साल अब कड़ाके की ठंड के आसार नहीं दिख रहे हैं। वैसे भी 15 जनवरी के बाद सूर्य के उतरायण होते ही ठंड में कमी आ जाएगी। कारण कि अगले सप्ताह सूर्य के मकर रेखा में प्रवेश करने के बाद तपीश बढ़ने लगेगी। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि हाड़ कंपा देने वाली सर्दी भी इस बार पड़ने के आसार नहीं हैं । जिसका असर जनजीवन के साथ फसलों पर पड़ना तय माना जा रहा है ।
क्या कहते हैं विशेषज्ञ
मौसम कृषि वैज्ञानिक रोशन कुमार बताते हैं कि मौजूदा समय गेहूं के लिए काफी महत्वपूर्ण है। इस समय गेहूं का कला फूटता है या नहीं गेहूं के पौधे में कन्नी निकलता है। इसके लिए 10 से 12 डिग्री तापमान अनुकूल है। 15 डिग्री से अधिक का तापमान गेहूं के लिए अनुकूल नहीं माना जाता। अभी न्यूनतम तापमान भी 15 से ऊपर रह रहा है। अधिकतम तापमान तो 25 तक पहुंच रहा है। इसलिए गेहूं खेती के लिए थोड़ा परेशानी भरा समय है।
ऐसे में क्या करें
्कृति पर किसी का बस नहीं है लेकिन इससे निपटने के लिए सतर्कता बरत सकते है। ठंड अधिक रहती है और उस गिरता है तो खेत में नवी बनती है और पौधे का तेजी से विकास होता है। अभी ऐसा कम हो रहा है। तो इसकी भरपाई के लिए समय से सिंचाई जरूरी है। हर हाल में नमी बनना जरूरी है। जिस किसान का गेहूं 40/45 दिन का हो गया है वे गेहूं की दूसरी सिंचाई कर दें। मसूर के लिए कोई ज्यादा परेशानी नहीं है फिर भी कहीं कहीं से उखड़ा रोग यानी मसूर के सूखने की समस्या की जानकारी मिल रही है। ऐसे में कॉपर ऑक्सन क्लोराइड 3 ग्राम प्रति लीटर चिड़कव करे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कई प्रकार की गतिविधियां में व्यस्तता रहेगी। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने में समर्थ रहेंगे। तथा लोग आपकी योग्यता के कायल हो जाएंगे। कोई रुकी हुई पेमेंट...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser