विवाद:भूमि विवाद से जुड़ी समस्या के निराकरण के लिए जनप्रतिनिधियों का लें सहयोग, बनाएं मोबाइल एप

नवादा5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में मौजूद डीएम,एडीएम,एसडीओ,सीओ व थानाध्यक्ष - Dainik Bhaskar
बैठक में मौजूद डीएम,एडीएम,एसडीओ,सीओ व थानाध्यक्ष
  • भूमि विवाद के कारण किसी भी परिस्थिति में विधि-व्यवस्था की समस्या उत्पन्न नहीं होनी चाहिए : डीएम

जिला पदाधिकारी यशपाल मीणा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट के डीआरडीए सभागार में भूमि विवाद के निराकरण के लिए समीक्षात्मक बैठक हुई। उन्होंने कहा कि भूमि विवाद और मद्य निषेध बिहार सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में है। सप्ताह के प्रत्येक शनिवार को अंचलाधिकारी और संबंधित थानाध्यक्ष के द्वारा भूमि विवाद के निवारण के लिए बैठक बुलाई जाती है। इसमें कई विवादों का निवारण भी किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि भूमि विवाद से संबंधित संयुक्त प्रतिवेदन अंचलाधिकारी और संबंधित थानाध्यक्ष के हस्ताक्षर से भेजना सुनिश्चित करेंगे।
अंचलों में स्थित सभी सरकारी भूमि का भौतिक सत्यापन करा लें: भूमि विवाद को समाधान करने के लिए जिलाधिकारी के द्वारा सभी आवश्यक ऐक्ट के बारे में विस्तार से अधिकारियों को जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि अंचलों में स्थित सभी सरकारी भूमि का भौतिक सत्यापन करा लें। ग्राम कचहरी में प्रतिनियुक्त न्याय मित्र, सरपंच आदि को भी भूमि विवाद से संबंधित पंचायतों में आयोजित की जाने वाली शिविर में आमंत्रित करने का निर्देश दिया गया। उन्होंने कहा कि पंचायतों में भूमि विवाद की समस्या को निराकरण के लिए जनप्रतिनिधियों का सहयोग लें।
राजीव कुमार डीआईओ को निर्देश दिया गया कि भूमि विवाद के समस्या समाधान के लिए मोबाइल ऐप बनाएं। तामिला का प्रस्ताव अनुमंडल पदाधिकारी नवादा और रजौली को देने का निर्देश दिया गया। जो अंचलाधिकारी और थानाध्यक्ष भूमि विवाद के निराकरण में उत्कृष्ट कार्य करेंगे उन्हें जिला स्तर पर सम्मानित किया जाएगा। बैठक में उज्जवल कुमार सिंह अपर समाहर्ता मो. मुस्तकीन खां, भूमि सुधार उप समाहर्ता उमेश कुमार भारती, अनुमंडल पदाधिकारी सीओ और थानाध्यक्ष उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...