नवादा में BDO के खिलाफ महिला अधिकारियों ने खोला मोर्चा:CM-DM समेत आलाधिकारियों को पत्र भेज की कार्रवाई की मांग, प्रताड़ित करने का लगाया आरोप

नवादा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नवादा में BDO के खिलाफ महिला अधिकारियों ने खोला मोर्चा। - Dainik Bhaskar
नवादा में BDO के खिलाफ महिला अधिकारियों ने खोला मोर्चा।

नवादा के नारदीगंज में महिला अधिकारियों और कर्मचारियों ने प्रखंड विकास पदाधिकारी अमरेश कुमार मिश्रा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन पर कई संगीन आरोप लगाते हुए डीएम-सीएम समेत अन्य आलाधिकारियों को पत्र भेज कर बीडीओ पर कार्रवाई की मांग की है। पत्र पर महिला प्रसार पदाधिकारी सुधा कुमारी, प्रखंड कार्यक्रम समन्वयक पूजा सिंह, सामाजिक सुरक्षा की कार्यपालक सहायक सोनाली कुमारी समेत दर्जन भर आंगनबाड़ी सेविकाओं के हस्ताक्षर हैं।

बीडीओ पर आरोप लगाया गया है कि सामाजिक सुरक्षा में कार्यरत सोनाली से पैसे की मांग की जा रही है। मना करने पर यह कहकर प्रताड़ित किया जा रहा है कि नौकरी खत्म करा दिया जाएगा। घर जाने वक्त फोन कर ऑफिस बुलाया जाता है और ऑफिस पहुंचने पर आवास आने को कहा जाता है। प्रखंड समन्वयक से विभागीय काम लेने के बजाए एक बिचौलिए से काम करवाया जाता है। मनोज कुमार नामक एक शिक्षक को बिचौलिया के रूप में है। उसके सामने बीडीओ जलील करते हैं और संविदा रद करने के लिए डीएम को रिपोर्ट करने की धमकी दी जाती है।

महिला प्रसार पदाधिकारी ने ससमय कार्य निष्पादित करने के बावजूद चार माह से वेतन रोकने और लोगों के सामने जलील करने का आरोप लगाया है। आंगनबाड़ी सेविकाओं को विभिन्न प्रकार का स्पष्टीकरण देकर बिचौलिया मनोज कुमार के माध्यम से पैसे की मांग की जाती है। अनुसूचित वर्ग के कर्मचारियों से जाति सूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए प्रताड़ित किया जाता है। महिला अधिकारियों व कर्मचारियों ने बीडीओ के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

डीएम-सीएम सहित मुख्य सचिव, ग्रामीण कार्य विभाग के प्रधान सचिव, राज्य महिला आयोग और अनुसूचित जाति जनजाति आयोग को पत्र भेजा गया है। बीडीओ अमरेश कुमार मिश्र ने इस सम्बंध में कहा कि आरोप जांच का विषय है,कार्य सही ढंग से नही करने पर मेरे द्वारा कार्रवाई की गई थी। चुनाव के समय शिथिलता बरतने के कारण कार्रवाई की गई थी, स्पष्टीकरण की मांग की गई थी,जिसमें एक का भी जबाव नहीं दिया गया है। सीडीपीओ को भी स्पष्टीकरण की दो तीन बार मांग किया गया था,एक का भी जवाब नहीं दिया गया है,स्टाफ अनुपस्थिति रहने के कारण डीडीसी के यहां से वेतन रोका गया है। स्टाफ समय पर कार्यालय नहीं आते है,समय पर आने के लिए कहा जाता है, मानने को तैयार नही है। इसलिए लोग साजिश के तहत मुझे बदनाम किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...