पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धरना देने का किया ऐलान:माले के दो दिवसीय जिला स्टैंडिंग समिति ने स्वास्थ्य सुविधा को लेकर 24 को धरना देने का किया ऐलान

नावानगर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सोनवर्षा में भाकपा-माले के जिला स्टैंडिंग कमिटी की दो दिवसीय बैठक बुधवार को संपन्न हो गई। बैठक में समिति के कार्यकर्ताओं के बीच कोरोना महामारी से हुई मौत की आंकड़ा छुपाने, मृतक के परिजनों को सरकार द्वारा मुआवजा देने में आनाकानी करने, स्वास्थ्य केन्द्र की बदहाल समेत अन्य मुद्दों पर चर्चा किया गया था।

पार्टी के बिहार राज्य सचिव कुणाल ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से बताया कि एक तरफ कोविड महामारी से मृतकों के परिजनों को चार रुपए देने की घोषणा करती है। वही इस महामारी से मृतकों की आंकड़ा छुपाने में लगे हैं। इसको लेकर अगामी 15 जुलाई को सभी प्रखंड पर वे धरना प्रदर्शन करेंगे। कोविड ने बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खोल दी है. इस त्रासदी ने इस सच्चाई को सामने ला दिया है कि स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह सरकारी नियंत्रण में होना चाहिए. माले विधायक दल की मांग है कि ऊपर से लेकर नीचे तक की स्वास्थ्य व्यवस्था को सरकार अविलंब ठीक करे।

इसकी मांग को लेकर भी अगामी 24 जुलाई को सभी प्रखंड मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन किया जायेगा। वही डुमरांव विधायक अजीत कुमार सिंह ने कहा कि भाजपा-जदयू सरकार 19 लाख स्थायी रोजगार के वादे से पीछे नहीं भाग सकती है। चुनाव के समय में किया गया वादा उन्हें निभाना होगा। लेकिन हम देख रहे हैं कि उसकी जगह सरकार अनुदान व लोन की बात कहकर मुद्दे को भटकाना चाहती है। अनुदान व लोन स्थायी रोजगार का विकल्प नहीं हो सकता है। कहां बिहार सरकार विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं को रिजर्वेशन दे रही है। यह तो ठीक है, लेकिन सरकार बताए कि आशा, आंगनबाड़ी, रसोइया व अन्य महिला स्कीम वर्करों को सरकार न्यूनतम मानदेय भी देना चाहिए। वगैर उचित मानदेय के महिलाएं सशक्तीकरण हो सकती है। इन महिलाओं को बेहद अमानवीय स्थिति में काम के लिए मजबूर किया जाता है।\

कहा आशा कार्यकर्ता बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था की रीढ़ बनी हुई हैं। पर सरकार उनके जीविकोपार्जन के लिए न्यूनतम राशि भी नहीं देती। इसके अलावे विधायक ने कहा कि सरकार ने यास चक्रवात को प्राकृतिक आपदा घोषित किया था। इस आपदा ने किसानों को कमर तोड दिया था। गरीबों की झोपड़ीनुमा घर बर्बाद हो गई थी। कहा भाकपा-माले पीड़ित किसानों के लिए 25000 रु. प्रति एकड़ मुआवजा देने तथा सभी जरूरतमंदों का आवास निर्माण की मांग करता है। मौके पर पोलित ब्यूरो सदस्य कॉम. स्वदेश भट्टाचार्य, बक्सर जिला सचिव कॉम. नवीन, प्रखंड सचिव हरेंद्र राम, रामदेव सिंह समेत अन्य थे।

खबरें और भी हैं...