एक्सपर्ट कमेटी ने रिपोर्ट सौंपी:आईजीआईएमएस, मेदांता व पीएमसीएच में ऑक्सीजन की कमी से 1000 बेड खाली

पटना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • एक्सपर्ट कमेटी ने सौंपी रिपोर्ट, हाईकोर्ट ने कहा-सरकार का एक्शन प्लान गलत था

पटना हाईकोर्ट में बुधवार को कोरोना मामले पर सुनवाई के दौरान तीन सदस्यीय एक्सपर्ट कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सौंपी। कमेटी ने बताया कि ऑक्सीजन की अनियमित आपूर्ति के कारण पीएमसीएच, आईजीआईएमएस और मेदांता अस्पताल में कोविड मरीजों के लिए करीब हजार से ज्यादा बेड खाली पड़े हुए हैं।

ऑक्सीजन की कमी व अनिश्चित आपूर्ति के कारण वहां के अस्पताल प्रशासन मरीजों को भर्ती नहीं कर पा रहे हैं। जहां पीएमसीएच में 1750 बेड की सुविधा है, लेकिन उसमें केवल 106 बेड ही कोविड मरीजों को मयस्सर है। आईजीआईएमएस में 1070 बेड की क्षमता के विपरीत 122 बेड ही कोविड मरीजों के लिए हैं। 500 बेड वाला मेदांता आज तक ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति के इंतजार में शुरू नहीं हो पाई है।

डॉक्टरों के 46 हजार से अधिक पद रिक्त

बुधवार को सुनवाई के दौरान खण्डपीठ को बताया गया कि सूबे के विभिन्न सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों के 91, 921 पद में 46,256 पद खाली हैं! हाईकोर्ट ने हैरानी जताते हुए कहा कि इतने सालों से सरकार क्या कर रही थी? डॉक्टरों की कमी को इस आपात स्थिति में कैसे पूरा किया जाएगा, इस पर भी सरकार से विस्तृत जवाब तलब किया गया है।

कोरोना से मौत के आंकड़े जारी करने का आधार पूछा

हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को यह भी निर्देश दिया कि सूबे में कोरोना से होने वाली मौत के आंकड़े जारी करने का क्या आधार व प्रक्रिया है। उसे कोर्ट के सामने स्पष्ट करें। राज्य मानव अधिकार आयोग के औचक नीरीक्षण रिपोर्ट भी देर शाम तक कोर्ट को पेश की गई, जिसपर गुरुवार चार बजे सुनवाई होगी।

खबरें और भी हैं...