मलाही पकड़ी से आईएसबीटी तक चल रहा काम:पटना मेट्रो के 6 अंडरग्राउंड स्टेशनों के निर्माण के लिए 1958 करोड़ का टेंडर

पटनाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • राजेंद्रनगर में ट्वीन टनल और बाहर आने के लिए रैंप भी बनेगा
  • पहले चरण में पटना जंक्शन से आईएसबीटी तक (प्रायॉरिटी कॉरिडोर) 14.55 किमी लंबी मेट्रो बननी है।

पटना मेट्रो के छह अंडरग्राउंड स्टेशनों आकाशवाणी, गांधी मैदान, पीएमसीएच, पटना यूनिवर्सिटी, मोइनुल हक स्टेडियम और राजेंद्रनगर के निर्माण के लिए टेंडर जारी किया गया है। इनमें राजेंद्रनगर में ट्वीन टनल और अंडरग्राउंड से जमीन पर मेट्रो के आने वाले रैंप का निर्माण भी शामिल है। 1958 करोड़ के इस टेंडर में सभी छह अंडरग्राउंड स्टेशन से लोगों के ऊपर जमीन के स्तर पर आने वाले ढांचा का निर्माण भी शामिल है।

पहले चरण में पटना जंक्शन से आईएसबीटी तक (प्रायॉरिटी कॉरिडोर) 14.55 किमी लंबी मेट्रो बननी है। इसमें जंक्शन से राजेंद्रनगर तक अंडरग्राउंड और वहां से आईएसबीटी तक एलिवेटेड स्ट्रक्चर का निर्माण करना है, जिसमें पहले से काम शुरू है। राजेंद्रनगर स्टेशन के पास मेट्रो के अंडरग्राउंड से एलिवेडेट होने के क्रम में ऐसे स्ट्रक्चर (रैंप) का निर्माण होना है जिसके मार्फत मेट्रो नीचे से एलिवेटेड होगी। वहीं राजेंद्रनगर में ही ट्वीन टनल बनेगा जिसे आने और जाने वाली मेट्रो अलग-अलग गुजरेगी।

मलाही पकड़ी से आईएसबीटी तक एलिवेटेड स्ट्रक्टर का निर्माण पहले से शुरू है। इसके लिए कंकड़बाग में पाइलिंग का काम किया जा रहा है। डिपो के लिए जमीन अधिग्रहण का काम अभी बाकी है पर आइएसबीटी डिपो में गेज ट्रैक बिछाने का टेंडर निकाला जा चुका है, जिसे दो वर्षों में पूरा करने का लक्ष्य है। अभी हाल ही में डीएमआरसी ने पटना मेट्रो के ओवरहेड बिजली आपूर्ति सिस्टम से जुड़े उपकरणों को लगाने के लिए भी 144.65 करोड़ का टेंडर किया है। पटना मेट्रो रेल प्रोजेक्ट की कुल लागत 13,366 करोड़ है जिसको 32.487 किलोमीटर लंबाई में दो कॉरिडोर में निर्माण करना है। पहला कॉरिडोर दानापुर से मीठापुर 17.93 किलोमीटर और दूसरा कॉरिडोर पटना रेलवे स्टेशन से आईएसबीटी तक 14.55 किलोमीटर है।

खबरें और भी हैं...