• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • 5 Criminals Including Infamous Gopi Thakur Arrested In Patna, The Oil Trader Was Shot In Buddha Colony, The Gang Was Also Involved In The Double Murder Of The Bypass

पटना में कुख्यात गोपी ठाकुर सहित 5 अपराधी अरेस्ट:बुद्धा कॉलोनी में ऑयल ट्रेडर को मारी थी गोली, बाइपास के डबल मर्डर में भी गैंग था शामिल

पटना4 महीने पहले
पटना में खुलास करते SSP मानवजीत सिंह ढिल्लो।

कुख्यात अपराधी गोपी ठाकुर को पटना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने इसके गैंग में शामिल अपराधियों को भी पकड़ा है। ये गैंग पिछले 5 महीने से लूट और हत्या के बड़ी वारदातों को अंजाम दे रहा था। सोमवार को पटना के SSP मानवजीत सिंह ढिल्लों ने गोपी ठाकुर समेत कुल 5 अपराधियों के गिरफ्तार किए जाने की पुष्टि की है। SSP के अनुसार गोपी ठाकुर पटना सिटी के खांजेकला थाना इलाके का रहने वाला है।

2019 में इसने अपराध की दुनिया में कदम रखा था। अब तक हत्या, लूट, डकैती, रंगदारी और छीनतई के कुल 10 आपराधिक मामले इसके उपर दर्ज हैं। इस साल जनवरी महीने में ही ये जेल से छुटा था। पुलिस ने इसके साथी दीपक उर्फ भदई (नीम घाट, खाजेकलां), राहुल कुमार उर्फ राहुल बोर (खांजेकला), विक्की उर्फ टिकटिक यादव और बंटी कुमार (गर्दनीबाग) को पकड़ा है। इन सब का आपराधिक इतिहास है। सभी को खांजेकला इलाके से ही गिरफ्तार किया गया है। इनके पास से एक पिस्टल समेत दो हथियार, एक एक्स्ट्रा मैगजिन, 7 गोली और वारदात को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल किए गए दो स्पोर्टस बाइक बरामद की गई है।

मेन लाइनर निकला बंटी
पटना के बुद्धा कॉलोनी इलाके में इसी महीने ऑयल ट्रेडर नटवर अग्रवाल को लूट के दौरान गोली मारी गई थी। SSP ने दावा किया कि इस वारदात का मेन लाइनर गिरफ्तार बंटी है। इस केस की जांच जब शुरू हुई तो पता चला कि जिस जगह पर नटवर अग्रवाल की एसके ट्रेडर्स की ऑफिस है, वहीं पर एक सिंह जी हैं। जिनका ड्राइवर बंटी है। वहां वो तीन महिनों से काम कर रहा था। इसके पहले वो छीनतई के मामले में आलमगंज थाना से जेल गया था। बंटी का चचेरा बहनोई है अपराधी राहुल बोर। इसके जरिए गोपी ठाकुर गैंग से जुड़ा। जिस दिन नटवर अग्रवाल को गोली मारी गई, उस दिन उसे पता चला था कि 25 लाख कैश लेकर ये लोग निकलने वाले हैं।

अपराधियों ने बनाए थे दो ग्रुप
बंटी ने राहुल बोर को बताया था कि कैश दो भागों में बंट कर निकलता है। फिर यह बात गोपी और बाकी के अपराधियों को बताई गई। इसके बाद इन अपराधियों ने दो टीम बनाई। एक नटवर के पीछे लगी और दूसरा उनके स्टाफ के पीछे। स्टाफ के साथ बहादुरपुर में लूटपाट हुई थी।

कंकड़बाग में लूटपाट के दौरान आर्मी जवान की गोली मारकर हत्या की गई थी। उस मामले में गिरफ्तार किए गए अपराधी शिवम और उसके गैंग का कनेक्शन गोपी ठाकुर के इस गैंग के साथ था। शिवम के साथ पकड़ा गया विवेक गुप्ता उर्फ कोबरा और गोपी ठाकुर नटवर अग्रवाल के पीछे लगे थे। दूसरा जो ग्रुप बना था उसमें अपराधी रिशू, जिसे आरा से पकड़ कर लाया गया था पहले के एक केस में, इसके साथ आज पकड़ा गया टिकटिक यादव व बख्तियारपुर का शिव सम्राज शामिल थे। ये ग्रुप नटवर के स्टाफ के पीछे लगा था। हालांकि, कारोबारी और उनके स्टाफ के पास कैश रुपए थे ही नहीं।

गोपी ठाकुर ने डबल मर्डर को दिया था अंजाम
कुछ दिनों पहले पटना के ही बाइपास थाना में चंदन और गोलू की हत्या हुई थी। डबल मर्डर के इस वारदात को गोपी ठाकुर ने ही अंजाम दिया था। इन दोनों को इसने ही अपने हाथों से गोली मारी थी। इस वारदात में टिकटिक यादव भी शामिल था। परसा बाजार में हरिओम ट्रेडर्स के ऑफिस में डकैती हुई थी। इस वारदात को भी अपराधियों के इसी गैंग ने अंजाम दिया था। इसी साल होली के टाइम अगमकुआं में एक कलेक्शन एजेंस से 70 हजार रुपए लूट लिए गए थे। इसमें गोपी ठाकुर भदई के साथ शामिल था।

खांजेकला में अपराधी टिकटिक यादव का दूसरे अपराधी कालिया से विवाद चल रहा था। दोनों के बीच हुई गोलीबारी हुई थी। इसमें टिकटिक की गोली से 12 साल के एक बच्चे की मौत हो गई थी। तब से टिकटिक फरार था, जो अब पकड़ा गया है। SSP के अनुसार इन अपराधियों के पकडे़ जाने से कुल 6 आपराधिक मामलों का खुलासा हुआ है।