पंचायत चुनाव:हाजीपुर प्रखंड की 23 पंचायतों में 60 प्रतिशत मतदान, पुरुषों की तुलना में आगे रहीं महिलाएं

हाजीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पंचायत चुनाव के दौरान मतदान केन्द्र का निरीक्षण करतीं डीएम उदिता सिंह व एसपी मनीष। - Dainik Bhaskar
पंचायत चुनाव के दौरान मतदान केन्द्र का निरीक्षण करतीं डीएम उदिता सिंह व एसपी मनीष।
  • जिले के हाजीपुर प्रखंड में अपनी पंचायत सरकार चुनने ग्रामीणों में दिखी होड़

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दूसरे चरण व जिले के प्रथम चरण अंतर्गत हाजीपुर प्रखंड में अपना पंचायत सरकार चुनने के लिए मतदाताओं में उत्साह दिखा। बुधवार को प्रखंड क्षेत्र के 23 पंचायतों में बनाए गए 330 मतदान केंद्रों पर सुबह सात बजे से मतदान शुरू हुआ जो देर शाम तक जारी रहा। इन सभी बूथों पर जिला प्रशासन द्वारा सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए थे। सभी बूथों पर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए थे। लगभग 60.14 फीसदी मतदाताओं ने मतदान किया। जिसमें पुरुष मतदाता 29.15 प्रतिशत व महिला मतदाता 31 प्रतिशत हैं।

देर शाम तक मतदान चल ही रहा था। महिला-पुरूष मतदाताओं की लंबी-लंबी कतारें सुबह से लगनी शुरू हो गई थीं। कुछ जगहों पर ईवीएम खराब होने की वजह से मतदान देर से शुरू हुआ। वहीं कई जगहों पर घंटों मतदाताओं को लाइन में खड़े होकर इंतजार करना पड़ा। हालांकि चुनाव कर्मियों द्वारा तुरंत सुधार कर लिया गया। इस बीच बुधवार की दोपहर में हुई रिमझिम बारिश की वजह से कहीं-कहीं बूथों पर रास्ता सही नहीं होने की वजह से कीचड़ व पानी भरे रास्ते से होकर मतदाताओं को बूथों तक गुजरना पड़ा।
बायोमिट्रिक सिस्टम पूरी तरह रहा फेल
चुनाव आयोग के दिशानिर्देश पर लगाए गए बायोमैट्रिक्स सेवा विफल साबित हुई। सर्वर की समस्या से बायोमैट्रिक्स के बिना कई मतदान केंद्रों पर मतदान कराया गया। इस कारण कई जगह मतदान की प्रक्रिया काफी धीमी रही। इस दौरान कई पोलिंग एजेंट को गड़बड़ी करने का आरोप मे पुलिस की डंडा व फटकार सुनना पड़ा। मतदान को लेकर डीएम उदिता सिंह व एसपी मनीष, डीडीसी विजय प्रकाश मीणा, एसडीआे अरूण कुमार, एसडीपीओ राघव दयाल, जिला सांख्यिकी पदाधिकारी सुनील कुमार समेत कई अधिकारी प्रखंड क्षेत्र में भ्रमण करते नजर आए।

मतदाताओं ने पसंद की गांव की सरकार के लिए किया मतदान
23 पंचायतों में कुल 217103 मतदाताओं में से 60 प्रतिशत मतदाताओं ने 704 प्रत्याशियों का भाग्य इवीएम में बंद कर दिया। उसका फैसला अब 1 और 2 अक्टूबर को होगा। बैलेट पेपर के माध्यम से सिर्फ पंच एवं सरपंच का चुनाव कराया गया। कुल छह पदों के लिए 330 बूथों पर पोलिंग पार्टियां सुबह चार बजे से ही पहुंचने लगे थे। सभी 23 पंचायतों में जिला परिषद सदस्य पद के लिए 4, मुखिया पद के लिए 23, सरपंच 23, पंच सदस्य 311, पंचायत समिति सदस्य 32,वार्ड 311 समेत कुल 704 पद जिसमें करीब 16 निर्विरोध निर्वाचित प्रत्याशी का चुनाव कर लिया गया एवं सभी की किस्मत कल सुबह 8 बजे से खुलनी शुरू हो जाएगी।

अलर्ट मोड में दिखे अधिकारी, लगातार भ्रमण में रहे
स्वतंत्र, निष्पक्ष, शांतिपूर्ण एवं भयमुक्त वातावरण में मतदान सम्पन्न कराने के लिए जिला निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा महुआ मोड़, जढ़ुआ मोड़, गंगाब्रिज व नायपर मोड़ मेन रोड के पास स्टैटिक निगरानी दल अलर्ट मोड में तैनात थे। सेक्टर मजिस्ट्रेट और पोलिंग पार्टियां तैनात थी। हर पोलिंग पार्टी में चार कर्मचारी थे। साथ ही सुपर जोनल दण्डाधिकारी/पुलिस पुलिस पदाधिकारी एवं थाना स्तर पर क्यूआरटी पदाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी, जोनल दण्डाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारी, सुरक्षित दण्डाधिकारी एवं पुलिस बल भ्रमण करते नजर आए। जानकारी हो कि हाजीपुर में चार पंचायत के अतिसंवेदनशील बूथ घोषित थे।

इन पंचायतों में शांतिपूर्ण चुनाव
पंचायत चुनाव को लेकर नदी में भी पुलिस द्वारा नाव गश्ती करते दिखे गए । शांति पूर्ण चुनाव को लेकर हरौली घाट से कोनहारा घाट तक और कोनहारा घाट से गांधी सेतु तक नाव गश्ती लगाया गया था। वही दौलतपुर चांदी, अरड़ा, ईस्माइलपुर, गौसपुर इजरा, मनुआ, गदाई सराय, बिशुनपुर बालाधारी, दौलतपुर देवरिया, थाथन बजुर्ग, पहेतिया व आजमपुर धोबघट्‌टी, सेन्दुआरी, बिशुनपुर वसंत उर्फ सुभई, बिशुनपुर वसंत, पानापुर लंगा, चकुन्दा उर्फ मिल्की, दयालपुर, काशिपुर चकबीबी, बहुआरा, अंधरबाड़ा, हिलालपुर, सहदुल्लापुर सातन व सुल्तानुपर पंचायत में सुरक्षा व चाक चौबंद व्यवस्था देखी गई।

पुरुषों के मुकाबले महिलाएं आगे
लोकतंत्र के महापर्व में महिलाओं ने पुरुष को पछाड़ते हुए करीब 14 फीसद अधिक मतदान किया। हाजीपुर प्रखंड के 23 पंचायतों में देर शाम तक करीब 60.14 फीसद मतदाताओं ने मताधिकार का प्रयोग किया। सबसे अधिक बिशुनपुर बसंत पंचायत में 66 फीसद मतदाताओं ने मतदान किया जबकि चकुन्दा उर्फ मिल्की पंचायत में सबसे कम 52 फीसद वोट पड़े। मतदान में महिलाओं ने बाजी मारी। महिला मतदान का प्रतिशत देर शाम तक 60.14 है जबकि 40.2 फीसद पुरुष मतदान कर सकें। यूं कहें कि पंचायत सरकार बनाने में महिलाओं ने अहम भूमिका निभाई है।

खबरें और भी हैं...