वारदात:पटना में बैंक की बेसमेंट में पेट्रोल पंप के मैनेजर से 8.60 लाख लूटे, 3 संदिग्ध हिरासत में

पटनाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • तिवारी बेचर की घटना, घायल पंप मैनेजर कंकड़बाग के निजी अस्पताल में भर्ती

बखौफ अपराधियों ने मंगलवार की शाम कंकड़बाग में पंप मैनेजर के साथ लूट की बड़ी घटना को अंजाम दिया। अपराधियों ने काॅलोनी मोड़ के पास स्थित मुकुट श्री सर्विस पेट्रोल पंप के मैनेजर अच्युतानंद राय पर हमला कर 8.60 लाख रुपए लूट लिए और फरार हो गए। घटना तब हुई जब मैनेजर तिवारी बेचर के पास एसबीआई की शाखा में पैसे जमा करने जा रहे थे।

घायल मैनेजर को स्थानीय लोगों ने कंकड़बाग के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया। मैनेजर के सिर में गंभीर चोट आई है। वे आईसीयू में एडमिट हैं। सिटी एसपी जितेंद्र कुमार ने कहा कि घटनास्थल पर एक ही अपराधी था। पुलिस छानबीन कर रही है। जल्द ही शातिरों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
मुकुट श्री सर्विसेस के मालिक मनीष कुमार हैं। मनीष व्यवसायी हैं और इनका ट्रांसपोर्ट का भी कारोबार है। पुलिस ने मनीष से पंप के कर्मियों के बारे में जानकारी ली है। पुलिस यह पता कर रही है कि हाल के दिनों में कितने नए कर्मी रखे गए हैं। किसी को नौकरी से निकाला भी गया है क्या। कुछ पंपकर्मियों से भी पुलिस पूछताछ की है। देर रात पुलिस ने थाना इलाके से तीन संदिग्धों को हिरासत में लिया है। तीनों से पूछताछ जारी है।
इतनी जोर से सिर पर मारा कि मैं चक्कर खाकर गिर गया

मैं हर दिन शाम के वक्त ही पैसे जमा करने जाता हूं। बैग कंधे में लटकाकर बाइक से मैं पंप से पैसे लेकर निकला था। बाइक रोड पर ही लगाकर मैं बेसमेंट में पहुंचा और सीढ़ी चढ़ने लगा। तभी मेरे सर पर जोर से चोट लगी। मुझे समझ ही नहीं आया क्या हुआ। मैं चक्कर खाकर सीढ़ी पर गिर गया। तभी एक आदमी ने पीछे से मेरे कंधे से बैग छीन लिया और भाग गया। मैं उसका चेहरा नहीं देख पाया। ऐसा लगा कि किसी ने रॉड से सिर पर प्रहार किया है। मुझे गंभीर चोट आई है। खून काफी बहा है, बोलने की स्थिति में नहीं हूं।

पंप से महज 500 मीटर दूर है बैंक
काॅलोनी मोड़ स्थित पंप से तिवारी बेचर स्थित एसबीआई बैंक महज 500 मीटर की दूरी पर है। हर दिन की तरह मैनेजर शाम के वक्त बाइक से पैसे जमा करने गए थे। उनके कंधे पर एक बैग लटका था, जिसमें 8.60 लाख रुपए थे। वे जैसे ही बैंक की बेसमेंट में पहुंचे और सीढ़ी चढ़ने लगे, एक अपराधी पीछे से आया और उनके सिर पर लोहे के रॉड से हमला कर उन्हें घायल कर दिया। मैनेजर लहुलुहान होकर सीढ़ी पर ही गिर गए और शातिर उनके कंधे से बैग लेकर फरार हो गया।

बेसमेंट में सीसीटीवी कैमरा नहीं

एसबीआई की शाखा मुख्य सड़क पर ही है। देर रात तक इस इलाके में लोगों का आना-जाना लगा रहता है। तिवारी बेचर के पास कई शोरूम और दुकानें हैं। अपराधियों का दुस्साहस ऐसा कि वे भीड़-भाड़ वाले इलाके में घटना को अंजाम दिया और चलते बने। बैंक की बेसमेंट में कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं है। घायल मैनेजर ने भी कहा कि उन्होंने अपराधियों को नहीं देखा। स्थानीय लोगों की मानें तो बाइक सवार तीन अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया। पुलिस भी मान रही है कि मुख्य सड़क पर और अपराधी होंगे। पुलिस आसपास का सीसीटीवी कैमरा खंगाल रही है।

100 कदम की दूरी पर थे आधे दर्जन पुलिसकर्मी, फिर भी भाग गए अपराधी

बैंक के बेसमेंट में हुई लूट की घटना पुलिस की गश्ती और चुस्ती पर सवाल खड़े करती है। स्थानीय दुकानदारों की मानें तो पंप के मैनेजर से लूट की घटना को अंजाम देने के बाद अपराधी राजेंद्र नगर स्टेशन की तरफ भागे। कुछ दुकानदारों ने कहा कि एक युवक मास्क लगाए हुए बेसमेंट से बैग लेकर निकला बाहर में एक युवक बाइक स्टार्ट कर खड़ा था, जिस पर बैठा और स्टेशन की तरफ चला गया। घटनास्थल से राजेंद्रनगर पुल के नीचे की दूरी महज 100 कदम होगी। वहां हर समय आधे दर्जन से अधिक पुलिसकर्मी रहते हैं। इसके बावजूद अपराधी घटना को अंजाम देकर फरार हो गए।
पंप से ही पीछा कर रहे थे अपराधी, दिखी संदिग्ध बाइक: वारदात को देखकर पुलिस भी मान रही है कि अपराधियों ने रेकी करने के बाद घटना को अंजाम दिया है। अपराधी मैनेजर का पीछा पंप से ही कर रहे थे। बातचीत में कुछ पंपकर्मियों ने बताया कि एक बाइक पर सवार दो युवक घटना से लगभग एक घंटे पहले पंप पर आए थे, लेकिन बिना तेल लिए चले गए। सूत्रों की मानें तो पुलिस को पंप के पास एक संदिग्ध बाइक दो घंटे में कई बार दिखी है। पुलिस छानबीन कर रही है।

खबरें और भी हैं...