• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • 98 Passengers Had Boarded From Patna In Bikaner Guwahati Express, Most Of Them Got Down At New Jalpaiguri.

बंगाल में हादसा:बीकानेर-गुवाहाटी एक्सप्रेस में पटना से सवार हुए थे 98 यात्री, इनमें ज्यादातर न्यू जलपाईगुड़ी में ही उतर गए थे

पटना9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बीकानेर से गुवाहाटी जा रही 15633 अप बीकानेर एक्सप्रेस ट्रेन की 12 बोगियां पश्चिम बंगाल के डोमोहानी के पास बेपटरी हो गई। कमिश्नर रेलवे सेफ्टी ने हादसे की उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए हैं। दुर्घटना मेन लाइन पर हुई है, इसलिए गुवाहाटी की ओर आने वाली सभी ट्रेनों का संचालन कुछ समय के लिए बाधित हुआ है।

राहत और बचाव कार्य के लिए रिलीफ ट्रेन दुर्घटनास्थल की ओर भेजी गई है। यह स्थान गुवाहाटी से 360 किमी की दूरी पर है। इस बीच, ट्रेन हादसे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बात की।

पूर्व मध्य रेल के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि जो यात्री पटना से चढ़े थे, उनमें से अधिकांश यात्री हादसे वाली जगह से पहले न्यू जलपाईगुड़ी स्टेशन पर ही उतर गए थे। पंडित दीनदयाल से सवार हुए यात्रियों में से 8 यात्री न्यू जलपाईगुड़ी स्टेशन से आगे की यात्रा में उस ट्रेन में थे। उनके बारे में पता लगाया जा रहा है।

पटना जंक्शन से कुल 98 यात्री सवार हुए थे। इसमें टू एसी में 2, थ्री एसी में 10, स्लीपर क्लास में 37 और जनरल क्लास में 49 यात्री चढ़े थे। इसके बाद मोकामा से स्लीपर में 2 और बख्तियारपुर से भी दो यात्री स्लीपर में सवार हुए थे। जबकि पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन से कुल 25 यात्री सवार हुए थे।

ट्रेन हादसे की कहानी, एक यात्री की जुबानी

न्यू जलपाईगुड़ी से जब ट्रेन खुली तो सबकुछ ठीक था। ट्रेन पूरी रफ्तार में थी। करीब 5 बजने वाले थे। अचानक खट-खट की अजीब-सी आवाज होने लगी। कुछ समझते कि एक-डेढ़ मिनट के अंदर जोरदार आवाज हुई और एक झटके के साथ ट्रेन रुक गई। जहां ट्रेन रुकी उस जगह एक छाेटा पुलिया था। बाहर देखा तब पता चला कि ट्रेन की कई बोगियां पटरी से उतर गई हैं।

इंजन के बाद आगे से चार-पांच बोगियां एक-दूसरे पर चढ़ गई थीं। कुछ लाइन के बाहर पलटी हुई थीं। देखते ही देखते इतनी भीड़ हो गई कि नजदीक जाने का मौका नहीं मिला। मैं ए-वन कोच में था। सारे एसी कोच पीछे थे, इसलिए किसी एसी बोगी को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है।

इंजन के बाद स्लीपर और जनरल क्लास की बोगियां पटरी से उतर गई थीं। भगवान का लाख-लाख शुक्र है कि हमलोगों को कुछ नहीं हुआ। किसी तरह वहां से दो किलोमीटर दूर पश्चिम बंगाल के मैनागुड़ी बाजार पहुंचे हैं। (पटना जंक्शन से इस ट्रेन में गुवाहाटी जाने के लिए सवार हुए बलिया उत्तर प्रदेश के निवासी कृष्णा शर्मा ने जैसा बताया।

खबरें और भी हैं...