• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • According To Mithila Panchang, Makar Sankranti Will Be Celebrated Today, Tomorrow According To Banarasi Panchang According To The Date Of Rise

आज से शुरू हो जाएंगे मांगलिक कार्य:मिथिला पंचांग के अनुसार आज मनाई जाएगी मकर संक्रांति, उदयातिथि के मान से बनारसी पंचांग के हिसाब से कल

पटना4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मिथिला पंचांग के अनुसार 14 जनवरी शुक्रवार को मकर संक्रांति का त्योहार मनेगा। जबकि उदयातिथि के माना से बनारसी पंचांग में 15 जनवरी को मकर संक्रांति मनाने का निर्देश है। इस बार पंचांगों मेंं भिन्नता के कारण मकर संक्रांति का त्योहार दो दिन मनाने की चर्चा है।

हालांकि अभी कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर इस बार गंगा घाटों पर स्नान के लिए जाने की मनाही है और मंदिर भी बंद हैं। ऐसे में इस बार ज्यादातर लोग अपने घर में ही स्नान-ध्यान के बाद दही-चूड़ा व तिलकूट खाकर सकरात मनाएंगे। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार स्नान वाले जल में गंगाजल मिलाकर हर हर गंगे, गंगे-गंगे या गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती। नर्मदे सिन्धु कावेरी जले अस्मिन् सन्निधिम् कुरु॥ इस मंत्र से स्नान करने से भी श्रद्धालु को गंगा स्नान का पुण्य मिलता है।

इधर, कोरोना की बंदिशों के बीच गुरुवार की शाम राजधानी के अधिकांश बाजारों में मकर संक्रांति की खरीदारी को लेकर खासी रौनक रही। लोगों के बीच कतरनी व बासमती चूड़ा के साथ भूर्रा, तिलकूट, तिलपापड़ी, गुड़ आदि खरीदने की भीड़ लगी थी। ज्योतिर्वेद विज्ञान केंद्र के निदेशक डॉ. राजनाथ झा के अनुसार हर क्षेत्र में कुछ व्यवहारिक बातें होती हैै, जिसे मानते हुए लोग अपने-अपने क्षेत्रगत व्यवहार से मकर संक्रांति मनाएंगे।

ज्योतिषाचार्य राकेश झा ने बताया कि मिथिला पंचांग के अनुसार सूर्य की संक्रांति शुक्रवार की दोपहर 2.30 बजे हो रहा है। मकर संक्रांति का पुण्यकाल सूर्य के राशि परिवर्तन से 16 घटी पहले और 16 घटी बाद तक रहता है। यानि शुक्रवार की सुबह लगभग 8:30 बजे से ही संक्रांति का पुण्यकाल आरंभ हो जाएगा, जो मध्यरात्रि बाद तक रहेगा।

इसीलिए शुक्रवार को ही यह पर्व मनाना श्रेयस्कर होगा। बनारसी पंचांग के मुताबिक 15 जनवरी शनिवार को पुण्यकाल दोपहर तक और उदयातिथि के मान से 15 को मकर संक्रांति का त्योहार बताया गया है। मकर संक्रांति के बाद सूर्य के उत्तरायण होते ही खरमास की समाप्ति हो जाएगी। इसके बाद हिन्दू धर्मावलंबियों के शुभ मांगलिक कार्य शादी-विवाह आदि शुरू हो जाएंगे।

खबरें और भी हैं...