• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Accused Of Charging Rs 5 Lakh Per Candidate, Removed After Getting A Month's Work At The House Of A Member Of BPSC

बिहार में माली की बहाली के नाम पर फर्जीवाड़ा:प्रति कैंडिडेट 5 लाख रुपए वसूलने का आरोप, BPSC के सदस्य के घर एक महीने काम कराने के बाद निकाला

पटना4 महीने पहले

सरकारी नौकरी की चाह रखने वाले बेरोजगार युवकों के साथ बिहार में बड़ी ठगी हो गई है। सचिवालय में माली की बहाली के नाम पर प्रति कैंडिडेट 5-5 लाख रुपए ठगे गए हैं। ठगी के शिकार हुए युवकों का दावा है कि यह फर्जीवाड़ा करीब 150 कैंडिडेट्स के साथ हुआ है। इस बात का उन्हें पता तब चला, जब वो मंगलवार को माली की बहाली के लिए इंटरव्यू देने न्यू सचिवालय के विकास भवन पहुंचे थे। जिसके बाद पहले जमकर हंगामा हुआ। फिर उस शख्स को पकड़ा, जो कैंडिडेट्स को इंटरव्यू के लिए बाहर से अंदर किसी अधिकारी के चैंबर में ले जा रहा था। इसका नाम कौशलेंद्र है और जहानाबाद का रहने वाला है।

फूफा से पता चला कि फर्जी है

ठगी के शिकार हुए समस्तीपुर के रहने वाले जय सिंह के अनुसार 2019 में ही एक हजार माली के लिए बहाली की बात सामने आई थी। इसी के तहत विकास भवन में उससे और कई युवकों से फॉर्म भरवाया गया था। इसने और इसके एक रिश्तेदार ने मिलाकर के अब तक 9 लाख (4.50-4.50 लाख) इस नौकरी के लिए दे दिए। 17 मई को इन दोनों का इंटरव्यू लिया गया था। आज ये दोनों बाकी के 50-50 हजार रुपए लेकर देने के लिए पहुंचे थे। मगर, इंदिरा भवन में पोस्टेड फूफा के जरिए जय सिंह को फर्जीवाड़े का पता चला।

काम करा कर बाहर कर दिया

समस्तीपुर के ही रहने वाले नीलेश कुमार के अनुसार उसने भी इस नौकरी के लिए 14 अप्रैल को 5 लाख रुपया दिया था। इसके बाद उसे कहा गया कि तुम्हारी नौकरी लग गई है। उसे एक सर्विस बुक भी दिया गया। नीलेश का दावा है कि उससे BPSC के सदस्य इम्तियाज अहमद करीमी के सरकारी आवास पर 22 अप्रैल से 26 मई तक काम कराया गया। इसके बाद सीधे यह कहा गया कि नौकरी कांट्रैक्ट बेसिस पर थी। तुम्हारा कांट्रैक्ट खत्म हो गया है। इसके बाद से नीलेश भी बहुत परेशान है।

मुजफ्फरपुर के रहने वाले अमित का नाम आया सामने

नौकरी के नाम ठगी के इस खेल में मुजफ्फरपुर के रहने वाले अमित कुमार का नाम सामने आया है। ठगी के शिकार हुए युवकों के अनुसार अमित ने ही सभी से रुपए लिए। आज हुए हंगामा के बाद वो फरार हो गया है। जस सिंह के अनुसार वो अपने एक दोस्त के जरिए अमित से मिला था। युवकों को दावा है कि सचिवालय में बैठे किसी बड़े अधिकारी के बगैर इतना बड़ा फर्जीवाड़ा नहीं हो सकता है। रात के वक्त युवक सचिवालय थाना में थे। पुलिस को इस मामले में लिखित कंप्लेन किया है। थानेदार सीपी गुप्ता के अनुसार प्रोपर जांच के बाद ही इस मामले में FIR होगी और आगे की कार्रवाई की जाएगी।