सावधान... नहीं चेते तो फिर कोरोना मचाएगा तबाही:73 दिन बाद NMCH में मिला संक्रमित, 12 नवंबर को AIIMS में एक की मौत

पटना7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर।
  • बिहार में टला नहीं है कोरोना का खतरा, राज्य में 26 एक्टिव मामले

कोरोना की पहली और दूसरी लहर से सबक नहीं लिया तो वायरस फिर तबाही मचाएगा। देश के कई राज्यों में संक्रमण बढ़ रहा है। पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (NMCH) में 73 दिन बाद (4 सितंबर के बाद) फिर एक संक्रमित मिला है। जबकि, पटना AIIMS में बीते 5 दिन में एक संक्रमित की मौत हुई है। अभी राज्य में 26 एक्टिव मामले हैं और एक संक्रमित की चूक से यह संख्या हजारों में पहुंच सकती है। दीपावली और छठ के बाद कोरोना के खतरे को लेकर सरकार भी अलर्ट है। जांच के साथ वैक्सीनेशन में तेजी की जा रही है।

ऐसे बढ़ रहा है कोरोना का खतरा

NMCH को बिहार सरकार ने कोरोना का डेडिकेटेड हॉस्पिटल बनाया था। यहां कोरोना काल में सामान्य मरीजों का इलाज बंद कर संक्रमितों का इलाज किया जाता था। कोरोना का मामला कम होने लगा तो सामान्य मरीजों का इलाज शुरू किया गया। 4 सितंबर को NMCH कोरोना से पूरी तरह से मुक्त हो गया। इसके बाद सामान्य मरीजों के इलाज के लिए अस्पताल को पूरी तरह से खोल दिया गया, लेकिन 17 नवंबर को आए एक मामले ने फिर मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

कोरोना रिपोर्टिंग के नोडल अफसर डॉ. मुकुल कुमार सिंह का कहना है कि 4 सितंबर के बाद पहला मामला कोरोना का आया है। पटना की एक 22 साल की महिला कोरोना संक्रमित भर्ती हुई है। वह छठ पर्व के दौरान महिला संक्रमित हुई है। नालंदा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में उसे भर्ती किया गया था, लेकिन परिजन उसे डिस्चार्ज कराकर इलाज के लिए प्राइवेट हॉस्पिटल ले गए हैं।

पटना AIIMS में मौत से लगाएं खतरे का अंदाजा

पटना AIIMS में 12 नवंबर को पटना के रहने वाले 81 साल के कोरोना संक्रमित पीके शर्मा की वायरस ने जान ले ली। घर वालों का कहना है कि कोरोना का पूरा लक्षण था, लेकिन जांच में पहले मामला पकड़ में ही नहीं आया। एम्स में भर्ती होने के बाद पहले रिपोर्ट निगेटिव आई, लेकिन बाद में संक्रमण की पुष्टि हुई। संक्रमण के कारण उनकी हालत बिगड़ती गई और 12 नवबंर को उनकी मौत हो गई। पटना एम्स में अभी भी दो संक्रमित भर्ती हैं, इसमें एक 13 साल का किशोर और एक 48 साल की महिला शामिल हैं।

अब तक इतने हुए संक्रमित

दीपावली और छठ के बाद से जांच तो बढ़ा दी गई है्, लेकिन कोरोना का खतरा कम नहीं हो रहा है। बिहार में एक दिन में 1 लाख 88 हजार जांच की जा रही है, लेकिन संक्रमण के मामले पकड़ में नहीं आ रहे हैं। बिहार में अब तक कुल 7 लाख 26 हजार 162 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें 7 लाख 16 हजार 473 लोगों ने कोरोना को मात भी दी। 9,662 लोगों की जान चली गई है।

खबरें और भी हैं...