राहत / वाहनों के परिचालन में कमी आने के कारण वायु प्रदूषण में आई गिरावट, पटना का एयर क्वालिटी इंडेक्स पहुंचा 129

लाॅकडाउन के दाैरान बहादुरपुर स्थित धनुष पुल पर पसरा सन्नाटा। लाॅकडाउन के दाैरान बहादुरपुर स्थित धनुष पुल पर पसरा सन्नाटा।
X
लाॅकडाउन के दाैरान बहादुरपुर स्थित धनुष पुल पर पसरा सन्नाटा।लाॅकडाउन के दाैरान बहादुरपुर स्थित धनुष पुल पर पसरा सन्नाटा।

  • एएन कॉलेज के जैव प्रौद्याेगिकी विभाग के डाॅ. मनीष कंठ ने कहा कि लाॅकडाउन से हम कोरोना वायरस पर विजय ताे पाएंगे ही, प्रदूषण रहित वातावरण में सांस ले सकेंगे
  • नवंबर, दिसंबर 2019 और जनवरी, फरवरी 2020 में पटनावासी प्रदूषण की मार झेल रहे थे। एक्यूआई स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया था

दैनिक भास्कर

Mar 26, 2020, 02:08 AM IST

राजू कुमार, पटना. लाॅकडाउन की वजह से गाड़ियां कम चलने से राजधानी की हवा स्वच्छ हुई है। शहरवासी शुद्ध हवा में सांस ले रहे हैं। बुधवार को पटना का एयर क्वालिटी इंडेक्स 129 रहा। सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के मानक के हिसाब से यह स्तर संतोषजनक है। हालांकि, मुजफ्फरपुर का एक्यूआई स्तर 275 रहा, जाे पुअर है। शहर में सबसे अधिक प्रदूषण वाहनों से निकलने वाले धुआं से होता है। पटना में तारामंडल, डीआरएम ऑफिस, बीआईटी मेसरा, ईको पार्क, एसके मेमोरियल हॉल में एक्यूआई स्तर मापने वाली मशीन लगी है। इन मशीनाें के अनुसार पिछले दो दिनों में एक्यूआई स्तर में काफी सुधार आया है।

तारामंडल के पास एक्यूआई स्तर 22 मार्च को 212 और 23 मार्च काे 160 मापा गया। समनपुरा स्थित बीआईटी के पास 22 मार्च काे 163 और 23 मार्च को 129 रहा। गांधी मैदान स्थित एसकेएम हॉल के पास 22 मार्च को 122 और 23 मार्च को 97, दानापुर डीआरएम ऑफिस के पास 22 मार्च को 238 और 23 मार्च को 113, ईको पार्क के पास एक्यूआई स्तर 22 मार्च को 95 और 23 मार्च को करीब 100 मापा गया।   

वायु प्रदूषण में 50 फीसदी की आएगी कमी
एएन कॉलेज के जैव प्रौद्याेगिकी विभाग के डाॅ. मनीष कंठ ने कहा कि लाॅकडाउन से हम कोरोना वायरस पर विजय ताे पाएंगे ही, प्रदूषण रहित वातावरण में सांस ले सकेंगे। पटना के वायु प्रदूषण में दो चीजों का मुख्य योगदान है। एक गाड़ियों से निकलने वाला धुआं और दूसरा निर्माण कार्य से निकलने वाला धूल-कण। इन दिनों दाेनाें गतिविधियां बंद हैं। इसलिए आशा है कुछ समय बाद एयर क्वालिटी और बेहतर होगी। प्रदूषण में 50 फीसदी से अधिक की कमी हो जाएगी। नवंबर, दिसंबर 2019 और जनवरी, फरवरी 2020 में पटनावासी प्रदूषण की मार झेल रहे थे। एक्यूआई स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया था।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना