पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Beur Jail Administration Checking Data Of Three Months Of Visits, Kolkata Police Can Take Subodh On Transit Remand

मनीष हत्याकांड:तीन माह के मुलाकातियों का डेटा खंगाल रहा बेउर जेल प्रशासन, सुबोध को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर जा सकती है कोलकाता पुलिस

पटना8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बंगाल के नेता व पूर्व पार्षद मनीष शुक्ला की हत्या के तार बेउर जेल से जुड़े हैं। जेल में बंद अंतरराज्यीय कुख्यात सोना लुटेरा सुबोध सिंह पर आरोप है कि उसने ही मनीष शुक्ला की हत्या की सुपारी लिया था। हालांकि, कोलकाता से आई पुलिस सुबोध सिंह से पूछताछ नहीं कर सकी और वारंट लेने वापस कोलकाता लौट गई। अब बेउर जेल प्रशासन बीते तीन महीने के मुलाकातियों को डाटा खंगाल रही है। सुबोध सिंह से इन तीन महीनों में कौन-कौन मिलने आया, मिलने वाला कौन था और सुबोध से उसका क्या संबंध थे, सबकुछ खंगाला जा रहा है।

सुबोध सिंह को ट्रांजिट रिमांड पर ले जा सकती है पुलिस

कोलकाता पुलिस अब कोर्ट ऑर्डर लेकर पटना आएगी। संभावना है कि कोलकाता पुलिस उसे ट्रांजिट रिमांड पर लेकर कोलकाता भी जा सकती है। या फिर बेउर जेल में ही सुबोध सिंह से पूछताछ कर सकती है। मनीष शुक्ला की हत्या के मामले में यह बात सामने आई है कि उसकी हत्या की सुपारी सुबोध ने ही डेढ़ करोड़ में लिया था। बाद में सुबोध दो गुर्गों को भेजकर उसकी हत्या करवाई।

तीन बार हुई थी मनीष की हत्या की कोशिश, बम भी फेंका गया था

बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के रहने वाले भाजपा नेता मनीष सहित दो की हत्या हथियारबंद अपराधियों ने टीटागढ़ पुलिस स्टेशन के पास चार अक्टूबर को की थी। छह अक्टूबर को मनीष हत्याकांड में पुलिस ने दो शातिरों खुर्रम खाना और गुलाब शेख को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने एक नेता के घर के पास से हत्या में प्रयुक्त बाइक और मुंगेरिया पिस्टल बरामद किया था।

इसी के बाद यह शक गहराया कि हत्या का कनेक्शन बिहार से जुड़ा हुआ है। 2010 में खुर्रम के पिता की हत्या कर दी गई थी। खुर्रम को शक था कि मनीष ने ही उसके पिता की हत्या की साजिश रची थी। इसके बाद बदला लेने की नीयत से खुर्रम ने तीन बार मनीष पर हमला करवाया था। एक बार तो मनीष पर बम से भी हमला हुआ था।

खबरें और भी हैं...