• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Bihar BJP Leaders Sent 11000 Postcards To PM, Congratulation Given Through Postcard From Patna GPO Under Seva Pakhwada Program

बिहार के BJP नेताओं ने PM को भेजे 11000 पोस्टकार्ड:सेवा पखवारा कार्यक्रम के तहत पटना जीपीओ से पोस्टकार्ड के माध्यम से दी बधाई

पटना14 दिन पहले

पटना में बीजेपी के कई नेताओं ने आज सेवा पखवाड़ा कार्यक्रम के तहत 11,000 पोस्ट कार्ड के माध्यम से प्रधानमंत्री को बधाई दिया। मौके पर मौजूद सभी नेताओं ने पोस्ट कार्ड को पत्र पेटी में डाला। इन पत्रों में अलग अलग लोगों ने प्रधानमंत्री को उनके अलग अलग योजनाओं के लिए बधाई देते हुए जन्मदिन की भी बधाई दी है। मौके पर संजय जायसवाल, नंदकिशोर यादव, संजीव चौरसिया के साथ कई नेता मौजूद रहे। बिहार बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने नीतीश और तेजस्वी पर सहयोगी दलों के साथ नाइंसाफी करने का आरोप लगाया।

बिहार में सत्ता से बहार होने के बाद भाजपा लगातार नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव पर हमलावर रही है। आज जीपीओ में सेवा पखवाड़े कार्यक्रम के दौरान संजय जयसवाल ने नीतीश कुमार पर जम कर निशाना साधा। नीतीश कुमार कोईलवर में नए मानसिक अस्पताल के उद्घाटन के मौके पर दो फीते काटे जाने की तस्वीर सामने आई है इसपर भी जयसवाल ने नीतीश और तेजस्वी की जोड़ी पर हमला बोला।

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने भतीजे तेजस्वी यादव के साथ मिलकर बाकी सहयोगी दलों को नजरअंदाज कर रहे हैं। जायसवाल ने कहा है कि आगे से जब कभी भी कोई उद्घाटन का कार्यक्रम हो तो नीतीश कुमार को वहां 7 फीते लगवाने चाहिए ताकि सभी सहयोगी दलों से एक-एक प्रतिनिधि उद्घाटन के दौरान फीते काटे, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

संजय जयसवाल ने तेजस्वी यादव की जमानत रद्द किए जाने वाले सवाल पर कहा कि तेजस्वी जिस तरह खुलेआम सीबीआई अधिकारियों को धमका रहे हैं, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय को ठंडा कर देने की धमकी दे रहे हैं, यह बातें कहीं न कहीं इशारा करती हैं कि वह आईआरसीटीसी घोटाले को प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में अगर तेजस्वी की जमानत रद्द कराने के लिए सीबीआई कोर्ट मैं गई है तो यह पूरी तरीके से कानूनी मामला है।

संजय जायसवाल ने नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव को लेकर बडा खुलासा किया है। जायसवाल ने कहा 2017 में बीजेपी के साथ आने से पहले नीतीश कुमार ने ही तेजस्वी यादव से जुड़े सभी दस्तावेज केंद्रीय एजेंसियों को मुहैया करा दिया था। नीतीश तो चाहते ही हैं कि तेजस्वी जेल चले जाएं। नीतीश का असली मकसद तेजस्वी की पार्टी आरजेडी को हाईजैक करने का है।

खबरें और भी हैं...