BJP दफ्तर के बाहर लाठीचार्ज:पटना में मांगों को लेकर जुटे थे वार्ड सचिव, पुलिस ने महिला-बच्चे सबको पीटा; गाड़ी पर पथराव

पटना6 महीने पहले

BJP दफ्तर के सामने सोमवार को अपनी मांगों को लेकर धरना दे रहे वार्ड सचिवों और पुलिस के बीच भिड़ंत हो गई है। बताया जा रहा है कि पुलिस ने लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोले और पानी की बौछार कर भीड़ को हटाने का प्रयास किया तो आंदोलनकारियों ने भी पुलिस वाहन पर पथराव कर दिया। इससे पूरा इलाका रणक्षेत्र में बदल गया है।

पुलिस ने महिला-बच्चाें तक को नहीं छोड़ा। सबको पीटा। इससे कुछ लोगों को चोटें भी आई है। कई गाड़ियों के शीशे फूट गए हैं। ASI उमाकांत प्रसाद को भीड़ ने घेर लिया और बहुत बुरी तरह से पीटा। बचाव के लिए ASI को पिस्टल निकलना पड़ा। फिर बैकअप में पुलिस आई तो उनकी जान बची।

प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की गाड़ी के शीशे तोड़ दिए।
प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की गाड़ी के शीशे तोड़ दिए।

बता दें, आज सुबह वार्ड सचिव संघ अपनी मांगों को लेकर धरने के 14वें दिन गर्दनीबाग से BJP ऑफिस पहुंचे थे। ऑफिस का घेराव कर सैकड़ों की संख्या में वार्ड सचिव वहीं धरने पर बैठ गए थे। इससे स्थिति तनावपूर्ण हो गई थी। संघ के सदस्यों की मांग थी कि सरकार की ओर से कोई हमसे मिलेगा, उसके बाद ही वो यहां से जाएंगे।

भूखे-प्यासे वार्ड सचिवों को छोड़ भोज में मस्त थे मंत्री

आंदोलनकारियों को वाटर कैनन से पानी की बौछार कर हटाने का प्रयास करती हुई पुलिस।
आंदोलनकारियों को वाटर कैनन से पानी की बौछार कर हटाने का प्रयास करती हुई पुलिस।
BJP ऑफिस के बाहर बड़ी संख्या में महिलाएं भी मौजूद रहीं।
BJP ऑफिस के बाहर बड़ी संख्या में महिलाएं भी मौजूद रहीं।

कार्यकाल तो बढ़ाया, वेतन आज तक नहीं दिया

संघ के सदस्यों का कहना है कि 2 वर्ष बीतने के बाद उनका कार्यकाल 5 साल बढ़ा दिया गया, लेकिन आज तक वेतन नहीं दिया गया। बीते शनिवार को भाजपा विधायक मुरारी मोहन झा धरना स्थल गर्दनीबाग पहुंचे थे और वार्ड सचिवों से मुलाकात की थी। विधायक ने उनकी बात सरकार तक पहुंचाने का आश्वासन दिया था।

धरने पर बैठे लोग।
धरने पर बैठे लोग।

क्या है मांगें

CM नीतीश कुमार द्वारा चलाए गए 7 निश्चय योजना के तहत 'गली-नली और नल-जल योजना' में राज्य भर के 1,14,691 लोगों को योग्यता के आधार पर नौकरी दी गई थी। 5 साल लगातार काम करने के बाद और कई बार आश्वासन मिलने के बाद भी सरकार ने इन्हें 1 रुपए का भी लाभ अब तक नहीं दिया। इसको लेकर राज्य के 38 जिलों के वार्ड सचिव और कर्मचारी गर्दनीबाग के महिला थाना में 13 दिनों से लगातार धरना प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन अब तक किसी भी प्रकार की सुनवाई नहीं हुई है। 13 दिसंबर को बिहार सरकार द्वारा एक पत्र जारी किया गया है, जिसमें पुराने सभी वार्ड सचिव को हटाकर नए वार्ड सचिवों को नियुक्त करने की बात कही गई है। आज सब्र का बांध टूटा तो भाजपा कार्यालय का घेराव कर दिया।